Beti Bachao Beti Padhao campaign is setting the stage for women empowerment -m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Apr 13, 2021 3:23 pm
Location
Advertisement

महिला सशक्तिकरण में चार चांद लगा रहा है बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान

khaskhabar.com : सोमवार, 08 मार्च 2021 2:35 PM (IST)
महिला सशक्तिकरण में चार चांद लगा रहा है बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान
कानपुर । आज महिलाएं पुरुषों से एक कदम भी पीछे नहीं है, जहां चांद पर पहुंचकर अपना परचम लहरा चुकी है तो वहीं देश के ओहदेदार पदों पर भी आसीन हैं। यही नहीं किसी भी बड़े या छोटे कार्य को संभालने में भी पीछे नहीं हटती है। केंद्र सरकार की महिला सशक्तिकरण से जुड़ी हर योजना से महिलाओं में आत्मविश्वास और आत्म निर्भरता आ रही है।
आपको बता दें कि आज से कुछ दशक पहले महिलाएं सिर्फ घरेलू कार्यों में ही सिमट कर रह जाती थी। अब राजीनीति, डॉक्टर, शिक्षक, पुलिस विभाग, हेयर ड्रेसर, पायलट व अन्य स्थानों पर भी अपनी अहम भूमिका निभा रही हैं। देश भर में सोमवार को महिला दिवस मनाया जाएगा वहीं कानपुर में भी जगह—जगह महिला सशक्तिकरण से सम्बंधित कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। इस खास दिन को लेकर कानपुर की महिलाओं का क्या कहना आप खुद ही सुनिए उन्हीं की जुबानी।
अब टेक्निकल हो या नान टेक्निकल या किसी सुरक्षा बल का हिस्सा महिलाएं उसमें भी अपना अहम योगदान देते हुए दिखाई दे रही है। रेलवे सुरक्षा बल में तैनात सब इंस्पेक्टर आरती कुमारी ने बताया कि आज वो देश की सेवा के लिए बीते 22 वर्षों से लगातार कार्य कर रही है,और अपने कार्यों से सन्तुष्टि जाहिर करते हुए देश की युवा महिला वर्ग को भी आगे बढ़ कर आगे कार्य करने के लिए भी प्रेरित कर रही है।
रेलवे सुरक्षा बल में मुख्य आरक्षी पद पर तैनात अर्चना पटेल का मानना है कि आज देश बड़ी ऊंचाइयों की ओर बढ़ रहा है, जिसमें महिलाओं ने भी कंधे से कंधे मिलाते हुए उसको बढ़ाया है। सरकार भी आज बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ अभियान चलाकर देश की बेटियों को बढ़ावा देने का कार्य कर रही है। ये हम महिलाओं के लिए गौरवान्वित पूर्ण बात है।

यातायात पुलिस विभाग में तैनात मीरा देवी का कहना है कि आज जो देश में बेटियों का स्तर बढ़ रहा है वो उनकी शिक्षा की वजह से ही है। क्योंकि आज से एक दशक पूर्व महिलाएं अशिक्षित होने की वजह से पीछे रह जाती थी। लेकिन उन्होंने शिक्षा के बल पर आज देश ही नहीं विदेशों में भी अपना परचम लहराया है। जो कि हर महिला वर्ग के गर्व की बात है।

प्राथमिक विद्यालय में सहायक शिक्षक के पद पर तैनात चांदनी सिन्हा ने बताया कि वो पिछले तीन वर्षों से एक अध्यापक के रूप में नौनिहालों को शिक्षा की ओर बढ़ा रही है। उनका मानना है कि आज देश का युवा शिक्षित होगा तो देश अपने आप ही तरक्की की ओर बढ़ेगा। इसलिए अब बेटी भी बेटे के बराबर होकर देश व समाज के लिए कार्य कर रही है।
मिडास टच सैलून की संचालिका मोहिनी परिहार ने बताया कि वो बीते चार वर्षों से महिलाओं के सौंदर्यीकरण करने का कार्य कर रही है। साथ ही अपने साथ महिलाओं को जोड़कर आत्मनिर्भर बना रही हैं है। उनका कहना है कि आज महिलाओं का स्तर देश में सबसे ऊंचा रखा गया है। क्योंकि जो कार्य किसी न हुआ उस कार्य को महिलाओं ने आगे बढ़ कर किया है। पहले कि समय महिलाएं सिर्फ घरेलू कार्य में अपने जीवन को बीता दिया करती थी। लेकिन आज महिलाएं देश की सत्ता की कमान संभालते हुए कई अन्य संस्थानों में भी अहम भूमिका निभा रही है जो कि हर वर्ग की महिलाओं के लिए गर्व महसूस करने की बात है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
Advertisement
Advertisement