Banswara growing as a Mango hub-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Aug 19, 2019 12:01 pm
Location
Advertisement

मेंगो हब के रूप में विकसित हो रहा बांसवाड़ा

khaskhabar.com : शुक्रवार, 07 जून 2019 12:39 PM (IST)
मेंगो हब के रूप में विकसित हो रहा बांसवाड़ा
बांसवाड़ा । राजस्थान का दक्षिणाचंल बांसवाड़ा जिला वागड़ गंगा माही से सरसब्ज है और माही के कारण ही जिलेभर में हरितिमा का साम्राज्य दिखाई देता है। नैसर्गिक सौंदर्य से लकदक यह जिला फलों के उत्पादन के लिए भी सर्वथा उपयुक्त है और यहीं वजह है कि यहां पर पैदा होने वाली आम की 46 से अधिक प्रजातियों की उपलब्धता को देखते हुए जिला प्रशासन, कृषि अनुसंधान केन्द्र और पर्यटन उन्नयन समिति, बांसवाड़ा द्वारा तीन दिवसीय ‘बांसवाड़ा मेंगो फेस्टिवल, 2019’ का आयोजन प्रस्तावित किया गया है। यह फेस्टिवल 7 से 9 जून तक आयोजित होगा।


मेंगो फेस्टिवल आयोजित करने का मुख्य उद्देश्य बांसवाड़ा जिले में उत्पादित होने वाले आम की स्थानीय और उन्नत किस्मों के बारे में जनसामान्य को जानकारी मुहैया करवाना, किसानों को आम के बगीचे लगाने के लिए प्रेरित करना, युवा उद्यमियों को आम प्रसंस्करण इकाई स्थापित करने के लिए प्रेरित करना तथा आम आधारित उद्योगों की व्यावसायिक संभावना तलाशना व इसके लिए उद्यमियों को प्रेरित करना भी है। यह फेस्टिवल आम से संबंधित जानकारियों को एक ही स्थान पर उपलब्ध कराने के मंच के रूप में भी उपयोगी साबित होगा। इसके साथ ही ‘मेेंगो हब’ के रूप में विकसित हो रहे बांसवाड़ा जिले का नाम राष्ट्रीय पर्यटन मानचित्र पर स्थापित करना भी इस फेस्टिवल का उद्देश्य है। मेले में लोग आम की इन प्रजातियों के बारे में जानकारी ले सकें, वे इन प्रजातियों को चख सकें, रसास्वादन कर सकें तथा वे भी इन प्रजातियों को उगाकर भरपूर लुत्फ उठा सकें, इस उद्देश्य को पूर्ण करने के लिए जिला प्रशासन द्वारा पुख्ता तैयारियां की गई हैं।

बांसवाड़ा जिले में परंपरागत रूप से पैदा होने वाली देसी रसीले आम की 18 प्रजातियों के साथ देशभर में पाए जाने वाली उन्नत किस्म की 28 अन्य प्रजातियों का भी उत्पादन होता है। जिले में महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, उदयपुर द्वारा संचालित क्षेत्रीय कृषि अनुसंधान केन्द्र एवं कृषि विज्ञान केन्द्र, बोरवट (बांसवाड़ा) पर भी बड़े क्षेत्र में मातृ वृक्ष बगीचे स्थापित हैं जिसमें देशी व उन्नत विभिन्न किस्म की कुल 46 प्रजातियों की आम किस्मों का संकलन है। यहां पर आम के ग्राफ्टेड पौधे तैयार कर किसानों को उपलब्ध करवाये जाते हैं। इसके साथ ही उद्यान विभाग के अधीन गढ़ी कस्बे में ‘राजहंस नर्सरी’ भी स्थापित है जहां से विभिन्न उन्नत किस्मों के आम के पौधे किसानों को अनुदान पर उपलब्ध करवाये जाते हैं।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

1/2
Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement