Balbir Singh Sidhu said, Government to link 300 healthy Punjab Health Centers with Tally Medicine Hub as a pilot project-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Feb 18, 2020 1:06 am
Location
Advertisement

सरकार पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर 300 तंदुरुस्त पंजाब स्वास्थ्य केन्द्रों को टैली मेडिसिन हब के साथ जोड़ेगी: बलबीर सिंह सिद्धू

khaskhabar.com : गुरुवार, 13 फ़रवरी 2020 10:13 PM (IST)
सरकार पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर 300 तंदुरुस्त पंजाब स्वास्थ्य केन्द्रों को टैली मेडिसिन हब के साथ जोड़ेगी: बलबीर सिंह सिद्धू
चंडीगढ़। राज्य भर में सभी तंदुरुस्त पंजाब स्वास्थ्य केंद्र (एच.डब्ल्यू.सी.) में व्यापक प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया करवाने के मद्देनजऱ, पंजाब सरकार ने पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर मार्च, 2020 तक 300 तंदुरुस्त पंजाब स्वास्थ्य केन्द्रों को टेली मेडिसिन हब के साथ जोडऩे का फ़ैसला लिया है।

इस सम्बन्धी जानकारी देते हुए स. बलबीर सिंह सिद्धू ने बताया कि राज्य भर में 1365 तंदुरुस्त पंजाब स्वास्थ्य केन्द्रों को मिले भारी प्रोत्साहन के बाद पंजाब सरकार अब ग्रामीण क्षेत्र में व्यापक स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के लिए 300 केन्द्रों को टेली मेडिसिन हब के साथ जोडऩे जा रही है। उन्होंने बताया कि चंडीगढ़ के सेक्टर 9 में 5 डॉक्टरों और 1 टेली मेडिसिन ऑपरेटर (टी.एम.ओ.) की निगरानी अधीन टेली मेडिसिन हब स्थापित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि टीएमओज़ को सीडेक मोहाली द्वारा प्रशिक्षण दिया गया है। टी.एम.ओज़ आगे सी.एच.ओज़ (कम्युनिटी हेल्थ अफ़सर) को प्रशिक्षण देंगे जिससे गांवों में टी.एम.एच. प्रोग्राम को सुचारू ढंग से चलाया जा सके।

उन्होंने कहा कि अब तक केन्द्रों में 35,62,492 मरीजों की ओपीडी दर्ज की गई है। उन्होंने आगे कहा कि इन केन्द्रों में सेवाओं में विस्तार करने के लिए 27 दवाएं और 6 डाईगनोस्टिक टेस्ट जैसे एचबी टेस्ट, ब्लड शुगर टेस्ट, गर्भ टेस्ट किट, यूरीन एलबुमिन टेस्ट, थूक के टेस्टों के साथ-साथ लम्बी चलने वाली बीमारियों के लिए दवाएं प्रदान की जा रही हैं जिससे लोगों को इलाज और दवाएं प्राप्त करने के लिए दूर न जाना पड़े। उन्होंने सभी सिविल सर्जनों को इन केन्द्रों में दवाओं की उपलब्धता को यकीनी बनाने के लिए हिदायतें भी दीं।

स. बलबीर सिंह सिद्धू ने कहा कि 12 बीमारियों के इलाज के अलावा जोखिम वाली आबादी में ‘कम्युनिटी बेसड असेसमेंट चेकलिस्ट’ पर ए.एन.एमज़ और आशा द्वारा ग़ैर-संचारित बीमारियों की स्क्रीनिंग की जा रही है। जिन लोगों में ग़ैर-संचारित बीमारियों का ख़तरा पाया गया, उनकी जांच स्वास्थ्य केंद्र-सब सेंटर में जांच के लिए आऊटरीच कैंपों, पीएचसी/सीएचसी में भेजा गया।

ग़ैर-संचारित बीमारियों से ग्रसित मरीजों संबंधी रोशनी डालते हुए स. सिद्धू ने बताया कि स्क्रीनिंग प्रोग्राम के दौरान हाईपरटेंशन (ब्लड प्रेशर) के 1,25,776 मरीज़, शुगर के 73,150 मरीज़, मुंह के कैंसर के 403 मरीज़, ब्रेस्ट कैंसर के 522 मरीज़, बच्चेदानी के कैंसर के 504 मरीज़ पाए गए। उन्होंने कहा कि हाईपरटेंशन वाले मरीजों को इन केन्द्रों में कम-से-कम 10 दिनों के लिए दवा दी गई।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि सभी जांच किये मरीजों को ऑपरेशन और सर्जरी की सेवाएं मुहैया करवाने के लिए आगे रेफर किया गया और दूसरे दर्जे की स्वास्थ्य सेवाओं के लिए इलाज भी शुरू किया गया है। उन्होंने आगे कहा कि रोज़ाना के स्वास्थ्य केन्द्रों के पोर्टल पर सभी रिकॉर्डों का डिजिटाइजेशन भी किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Punjab Facebook Page:
Advertisement
Advertisement