anil vij said Create digital record of government and private property soon-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jan 26, 2020 8:01 pm
Location
Advertisement

सरकारी एवं निजी प्रॉपर्टी का डिजिटल रिकॉर्ड शीघ्र तैयार करें: अनिल विज

khaskhabar.com : बुधवार, 11 दिसम्बर 2019 8:59 PM (IST)
सरकारी एवं निजी प्रॉपर्टी का डिजिटल रिकॉर्ड शीघ्र तैयार करें: अनिल विज
चंडीगढ़। हरियाणा के गृह, स्वास्थ्य एवं स्थानीय निकाय मंत्री अनिल विज ने कहा कि राज्य के सभी नगर निगमों, नगरपरिषदों तथा नगरपालिकाओं के अन्तर्गत आने वाली सरकारी एवं निजी प्रॉपर्टी का डिजिटल रिकॉर्ड शीघ्र तैयार करने के निर्देश है।
विज ने कहा कि इसमें विभिन्न संपत्तियों के मालिकों तथा किन लोगों की तरफ कितना टैक्स बकाया होने के साथ अन्य जानकारी भी प्राप्त की जाएगी। उन्होंने कहा कि सभी निकायों के अधिकारियों को प्रतिदिन 11 से 12 जनता दरबार लगाने, सभी नियमित एवं अनुबंधित कर्मचारियों की बॉयोमेट्रिक हाजरी लगाने, निर्माण कार्यों की जांच विभिन्न दो लैब से करवाने तथा विभिन्न हेड में बक़ाया टैक्स की रिपोर्ट देने के भी निर्देश दिए गए है।
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि प्रदेश में चिकित्सकों की कमी को दूर करने के लिए शीघ्र ही 750 डॉक्टर की भर्ती की जाएगी। इनमें 400 डॉक्टर्स नियमित तथा 350 डॉक्टर्स अनुबंध पर रखे जाएंगे। इनमें अनुबंध पर रखे जाने वाले एमबीबीएस को 85 हजार तथा विशेषज्ञ डॉक्टर को डेढ़ लाख रुपए मासिक दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों तथा जिला अस्पतालों को आवश्यकतानुसार नवीनीकृत, वातानुकूलित तथा अपग्रेड किया जाएगा।
विज ने कहा कि राज्य के सभी अस्पतालों में कैथ लैब, डायलिसिस सेंटर, एमआरआई तथा सीटी स्कैन की आधुनिक सुविधाए उपलब्ध करवाने के निर्देश दे दिए गए हैं, जिन पर तेजी से काम किया जा रहा है। इससे राज्य के लोगों को उनके गृह जिलों में ही इस तरह की आधुनिक सुविधाएं प्राप्त हो सकेंगी।
गृह मंत्री ने कहा कि राज्य के जर्जर पुलिस थानों के भवनों का नवीनीकरण किया जाएगा ताकि पुलिस कर्मचारियों को अच्छा वातावरण उपलब्ध करवाकर उत्कृष्ट काम लिया जा सके। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार राज्य को नशा मुक्त बनाने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। हमने पुलिस को ड्रग माफिया की जड़ तक पहुंचने के निर्देश दिए हैं ताकि हरियाणा को ड्रग फ्री बनाया जा सके। इसके साथ ही विभिन्न जिलों में विभिन्न धाराओं के तहत कितने केस पंजीकृत किए गए हैं तथा उन पर की गई कार्रवाई की भी रिपोर्ट मांगी गई है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Haryana Facebook Page:
Advertisement
Advertisement