Agriculture Law Bill: Ruckus on Ambala-Patiala border, farmers break barricades, police lathi-charge-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jun 17, 2021 11:19 am
Location
Advertisement

कृषि कानून बिल : सीएम कैप्टन का खट्टर पर पलटवार, कहा- मैं उकसा रहा तो हरियाणा के किसान दिल्ली क्यों जा रहे?

khaskhabar.com : गुरुवार, 26 नवम्बर 2020 6:20 PM (IST)
कृषि कानून बिल : सीएम कैप्टन का खट्टर पर पलटवार, कहा- मैं उकसा रहा तो हरियाणा के किसान दिल्ली क्यों जा रहे?
अंबाला। बढ़ते तनाव के बीच पंजाब में हरियाणा की सीमा पर विभिन्न जगहों पर गुरुवार को हजारों प्रदर्शनकारी किसान रात भर बारिश और सर्द हवाओं का सामना करते हुए इकट्ठा हुए। केंद्र के 3 कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे ये लोग 'दिल्ली चलो' के तहत राष्ट्रीय राजधानी की ओर बढ़ रहे थे जिन्हें हरियाणा पुलिस ने सीमा पर रोक लिया है। इसके बाद प्रदर्शन अंबाला-पटियाला बॉर्डर पर उग्र हो गया है। यहां किसानों ने बैरिकेडिंग को उखाड़ फेंका है, जिसके बाद किसानों पर पानी की बौछार की जा रही है, आंसू गैस के गोले छोड़े गए हैं।

बता दें कि पुलिस ने हरियाणा के लगभग 100 किसान नेताओं को एहतियात के तौर पर हिरासत में लिया है। पुलिस के अनुमान के मुताबिक दोनों राज्यों के लगभग 3 लाख किसान 'दिल्ली चलो' आंदोलन के तहत दिल्ली पहुंचने के लिए तैयार हैं। ये किसान 33 संगठनों से जुड़े किसान संयुक्त किसान मोर्चा का हिस्सा हैं, जो 470 से अधिक किसान यूनियनों का अखिल भारतीय निकाय है। यह 26 नवंबर से राष्ट्रीय राजधानी में अनिश्चितकालीन विरोध प्रदर्शन में भाग लेंगे।


प्रदर्शनकारियों ने धमकी दी है कि अइगर उन्हें राष्ट्रीय राजधानी जाने से रोका गया तो वो दिल्ली की ओर जाने वाली सभी सड़कों को बंद कर देंगे। वहीं हरियाणा में प्रवेश करने से रोके गए किसान संगठनों के नेताओं ने घोषणा की है कि वे एक सप्ताह के लिए बठिंडा और सिरसा जिलों के बीच डबवाली बैरियर पर 'धरना' देंगे। बीकेयू (उग्राहन) के अध्यक्ष जोगिंदर उग्राहन ने कहा, "अगर हमें गुरुवार को हरियाणा और दिल्ली की ओर जाने की अनुमति नहीं दी जाती है, तो हम एक हफ्ते तक सीमाओं पर विरोध करेंगे।" दिल्ली पुलिस ने किसानों को दिल्ली में प्रवेश नहीं करने के लिए कहा है क्योंकि उनके पास शहर में विरोध करने की अनुमति नहीं है।


हरियाणा पुलिस ने भी ट्रैवल एडवाइजरी जारी कर यात्रियों को पंजाब और दिल्ली के साथ राज्य की सीमाओं के साथ कुछ राष्ट्रीय राजमार्गों पर यात्रा करने से बचने के लिए कहा है। प्रदर्शनकारी 4 प्रमुख राष्ट्रीय राजमार्गों अंबाला से दिल्ली, हिसार से दिल्ली, रेवाड़ी से दिल्ली और पलवल से दिल्ली के जरिए यहां आना चाहते हैं। कृषि कानूनों का विरोध करने वाले किसानों ने आशंका व्यक्त की है कि ये कानून न्यूनतम समर्थन मूल्य प्रणाली को खत्म कर देंगे, जिससे वे बड़े कॉपोर्रेट संस्थानों की 'दया' पर निर्भर हो जाएंगे।
सीएम खट्टर का अमरिंदर सिंह पर हमला, कहा- MSP से किसानों को परेशानी हुई तो छोड़ राजनीति दूंगा

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पर जुबानी हमला बोला है। उन्होंने ट्वीट करके कहा है कि एमएसपी को लेकर किसी तरह की परेशानी किसानों को झेलनी पड़ेगी तो वह राजनीति छोड़ देंगे।

किसानों के समर्थन में आई प्रियंका गांधी, ट्वीट कर बोली ये बात

किसानों के प्रदर्शन पर राजनीतिक प्रतिक्रियाएं आ रही हैं, कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर लिखा कि किसानों से समर्थन मूल्य छीनने वाले कानून के विरोध में किसान की आवाज सुनने की बजाय भाजपा सरकार उन पर भारी ठंड में पानी की बौछार मारती है। किसानों से सबकुछ छीना जा रहा है और पूंजीपतियों को थाल में सजा कर बैंक, कर्जमाफी, एयरपोर्ट रेलवे स्टेशन बांटे जा रहे हैं।

दिल्ली बॉर्डर पर बढ़ाई गई सुरक्षा, डायवर्ट की गई ट्रैफिक

दिल्ली पुलिस ने कोरोनावायरस के मद्देनजर दिल्ली में किसी भी तरह की सभा को आयोजित न कर किसानों से सहयोग करने का अनुरोध किया और ऐसा न होने पर कानून के अनुसार कानूनी कार्रवाई शुरू करने की बात कही। एहतियात के तौर पर गाजीपुर सीमा, डीएनडी और चिल्ला पर भी सुरक्षा बलों की भारी तैनाती की गई है। दिल्ली यातायात पुलिस द्वारा कई मार्गों को भी मोड़ दिया गया है। दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने ट्वीट में कहा, केंद्र सरकार के कृषि बिलों के विरोध में 26 और 27 नवंबर को ऑल इंडिया किसान संघर्ष कॉर्डिनेशन कमिटि द्वारा बुलाए गए विरोध मार्च के मद्देनजर सभी मोटर चालकों को दिल्ली बॉर्डर से बचने की सलाह दी जाती है।


हरियाणा पुलिस ने किसानों के 'दिल्ली चलो' मार्च के हिस्से के रूप में उन्हें राष्ट्रीय राजधानी तक पहुंचने से रोकने के लिए राजमार्गों पर रोड बैरिकेड्स और डायवर्जन स्थापित किए हैं, हालांकि किसानों पर इससे अधिक प्रभाव नहीं पड़ा। किसानों ने धमकी दी है कि यदि अधिकारियों ने उन्हें मार्च के दौरान रोकने की कोशिश की तो वे दिल्ली तक सभी सड़कों को अवरुद्ध कर देंगे। केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों द्वारा एक नियोजित विरोध मार्च के मद्देनजर कुछ क्षेत्रों में दिल्ली मेट्रो सेवाएं दोपहर 2 बजे तक के लिए बंद कर दी गई हैं।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

1/4
Advertisement
Khaskhabar Haryana Facebook Page:
Advertisement
Advertisement