85 percent women missed salary hike, promotion-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Apr 19, 2021 4:15 am
Location
Advertisement

85 प्रतिशत महिलाएं वेतन वृद्धि, प्रमोशन से चूकीं

khaskhabar.com : मंगलवार, 02 मार्च 2021 5:09 PM (IST)
85 प्रतिशत महिलाएं वेतन वृद्धि, प्रमोशन से चूकीं
नई दिल्ली। भारत में कोविड-19 महामारी के बीच महिलाएं बुरी तरह से प्रभावित हुई हैं और सर्वेक्षण में शामिल 85 फीसदी महिलाएं जेंडर की वजह से वेतन वृद्धि और पदोन्नति से चूक गईं। मंगलवार को लिंक्डइन तकी एक नई रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है। देश में कार्यस्थल पर महिलाओं और माताओं द्वारा सामना किए जा रहे जेंडर गैप और अवसरों में आने वाली अड़चनों पर प्रकाश डालते हुए, लिंक्डइन ऑपर्चुनिटी इंडेक्स 2021 में कहा गया कि 69 प्रतिशत कामकाजी माताओं को पारिवारिक जिम्मेदारियों के कारण भेदभाव का सामना करना पड़ता है।

निष्कर्षो से पता चला है कि 10 में से नौ (89 प्रतिशत) महिलाओं ने कहा कि वे महामारी से नकारात्मक रूप से प्रभावित हुईं।

भले ही भारत में 66 प्रतिशत लोगों को लगता है कि उनके माता-पिता के दौर की तुलना में लिंग समानता में सुधार हुआ है, भारत की कामकाजी महिलाएं अभी भी एशिया प्रशांत देशों में सबसे ज्यादा लैंगिक पूर्वाग्रह का शिकार हैं।

अपने करियर में आगे बढ़ने के अवसरों से नाखुश होने के कारणों के बारे में पूछे जाने पर, भारत में 1 से 5 (22 प्रतिशत) कामकाजी महिलाओं ने कहा कि उनकी कंपनियां उनकी कंपनियां 16 प्रतिशत के क्षेत्रीय औसत की तुलना में, काम के दौरान पुरुषों के प्रति 'अनुकूल पूर्वाग्रह' नजरिया का प्रदर्शन करती हैं।

लिंक्डइन में टैलेंट और लनिर्ंग सॉल्यूशंस, इंडिया की डायरेक्टर रुची आनंद ने कहा, "संस्थानों के लिए यह आवश्यक है कि वे अपनी विविधताओं को फिर से परिभाषित करें और कार्यबल में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए केयरगिवर्स को अधिक लचीला माहौल प्रदान करें।"

वहीं, 37 प्रतिशत कामकाजी महिलाओं ने कहा कि उन्हें पुरुषों की तुलना में कम अवसर मिलते हैं, केवल 25 प्रतिशत पुरुष ही इस बात से सहमत हैं।

समान वेतन के बारे में भी यह असमानता भी देखी जाती है, क्योंकि अधिकांश महिलाओं (37 प्रतिशत) का कहना है कि उन्हें पुरुषों की तुलना में कम वेतन मिलता है, जबकि केवल 21 प्रतिशत पुरुष ही इस बात से सहमत हैं।

भारत में, पुरुषों और महिलाओं दोनों द्वारा मांगे गए तीन नौकरी के शीर्ष तीन अवसर हैं-नौकरी की सुरक्षा, एक ऐसी नौकरी है जिसे वे प्यार करते हैं, और अच्छा काम-जीवन संतुलन।

रिपोर्ट में उल्लेख किया गया कि समान लक्ष्यों के होने के बावजूद, अधिकांश महिलाओं (63 प्रतिशत) को पुरुषों (54 प्रतिशत) की तुलना में लगता है कि जीवन में आगे बढ़ने के लिए एक व्यक्ति का जेंडर महत्वपूर्ण है।

वास्तव में, लगभग दो-तिहाई कामकाजी महिलाओं (63 प्रतिशत) और कामकाजी माताओं (69 प्रतिशत) ने कहा कि उन्हें पारिवारिक और घरेलू जिम्मेदारियों के कारण काम में भेदभाव का सामना करना पड़ा है।

रिपोर्ट में कहा गया कि आवश्यक पेशेवर कौशल की कमी, और नेटवर्क और कनेक्शन के माध्यम से मार्गदर्शन की कमी भी कुछ अन्य बाधाएं हैं जो भारत में कामकाजी महिलाओं के लिए करियर में अड़चनें बनती हैं।

लिंक्डइन रिपोर्ट में कहा गया है कि दो में से एक महिला भी अधिक पेशेवर कनेक्शन और मेंटॉर की तलाश कर रही है जो उनके करियर को आगे बढ़ाने में मदद कर सके, क्योंकि 65 प्रतिशत महिलाएं इस बात से सहमत हैं कि नेटवर्क के माध्यम से मार्गदर्शन की कमी अवसरों में एक महत्वपूर्ण अड़चन है।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement