4 communal incidents in 3 months exposing Intel failure in Rajasthan-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Aug 18, 2022 10:54 am
Location
Advertisement

3 महीने में 4 सांप्रदायिक घटनाएं राजस्थान में इंटेल की विफलता को कर रही उजागर

khaskhabar.com : गुरुवार, 30 जून 2022 3:08 PM (IST)
3 महीने में 4 सांप्रदायिक घटनाएं राजस्थान में इंटेल की विफलता को कर रही उजागर
जयपुर । राजस्थान में तीन महीने में सांप्रदायिक हिंसा की चार घटनाओं ने इस रेगिस्तानी राज्य में खुफिया तंत्र की नाकामी की ओर ध्यान खींचा है और अब प्रशासन पर सवाल खड़े हो रहे हैं। उदयपुर में एक दर्जी कन्हैया लाल की निर्मम हत्या के बाद पूरे राज्य में खुफिया विफलता की चर्चा हो रही है, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर डाला गया था।

तीन महीने में राज्य के चार जिलों में सांप्रदायिक दंगे हुए हैं और आश्चर्यजनक रूप से इन सभी घटनाओं में खुफिया विभाग जिला प्रशासन को कोई इनपुट देने में विफल रहा है।

राजस्थान में दंगे करौली, जोधपुर, भीलवाड़ा और अब उदयपुर में भीषण हत्याकांड हो चुके हैं, लेकिन खुफिया जानकारी नहीं थी।

करौली में 2 अप्रैल को रामनवमी के मौके पर पथराव की सूचना मिली थी, लेकिन खुफिया एजेंसियों को इसकी भनक नहीं लगी। कुल 37 लोगों को गिरफ्तार किया गया, जबकि 140 के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। कुछ अभी भी फरार हैं। कई दुकानों में आग लगा दी गई। पुलिस ने 144 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया, लेकिन अब तक 37 को ही गिरफ्तार किया जा सका है।

इसके एक महीने बाद, जोधपुर के जालोरी गेट पर स्वतंत्रता सेनानी बाल मुकुंद बिस्सा की प्रतिमा के पास एक निश्चित समुदाय का झंडा फहराने को लेकर विवाद के कारण सांप्रदायिक तनाव फैल गया। चार दिन के लिए इंटरनेट बंद कर दिया गया था। लगभग 40 लोगों को गिरफ्तार किया गया था और हमेशा की तरह सांप्रदायिक झड़प के बारे में कोई खुफिया जानकारी नहीं थी।

भीलवाड़ा में 5 मई को सांगानेर क्षेत्र में दो समुदायों के बीच हुई मारपीट ने सांप्रदायिक तनाव का रूप ले लिया। दोनों समुदायों के लोग सड़कों पर उतर आए। पुलिस को दो दिन के लिए इंटरनेट बंद करना पड़ा। जबकि 25 लोगों पर मामला दर्ज किया गया था, अब तक कुछ ही गिरफ्तार किए गए हैं। छह दिनों के बाद भीलवाड़ा के शास्त्री नगर इलाके में फिर से सांप्रदायिक तनाव हो गया। अधिकारियों ने फिर एक दिन के लिए इंटरनेट बंद कर दिया। भीलवाड़ा पुलिस को इलाके में सांप्रदायिक तनाव के बारे में कोई खुफिया जानकारी नहीं थी।

राजस्थान पुलिस ने यह जांच करने के लिए एक एसआईटी का गठन किया है कि क्या ये दंगे किसी साजिश का हिस्सा थे, सरकार को एक रिपोर्ट दी जानी बाकी है।

इस बीच, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि उदयपुर हत्याकांड ने राज्य में कानून-व्यवस्था के साथ-साथ खुफिया तंत्र की पूर्ण विफलता को उजागर किया है।

उन्होंने कहा, "उदयपुर की घटना से पता चलता है कि अपराधी कैसे निडर होते जा रहे हैं, जो राज्य सरकार की कानून-व्यवस्था की विफलता को उजागर करता है। एनआईए या केंद्रीय एजेंसी तभी आती है, जब स्थानीय प्रशासन विफल हो जाता है। यदि पुलिस प्रशासन और राज्य सरकार कमजोर हो जाती है, कानून-व्यवस्था बनाए रखने की नैतिक जिम्मेदारी गृह मंत्री और मुख्यमंत्री की है। यह खेदजनक है कि सीएम ने ट्विटर के जरिए शांति की अपील की।"

--आईएएनएस








ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement