16 villages of Mand area in the rain Changed into island in Kapurthala-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Feb 23, 2020 1:53 pm
Location
Advertisement

बारिश में मंड क्षेत्र के 16 गांव टापू में तब्दील

khaskhabar.com : रविवार, 09 जुलाई 2017 4:39 PM (IST)
बारिश में मंड क्षेत्र के 16 गांव टापू में तब्दील
कपूरथला। दरिया ब्यास में पानी का स्तर बढ़ने और आने वाले दिनों में बाढ़ की आशंका के मद्देनजर जिला प्रशासन ने पैंटून पुल हटा दिया। इससे सुल्तानपुर लोधी क्षेत्र से सटे मंड क्षेत्र के 16 गांव टापू में तब्दील हो गए हैं।

पैंटून पुल के खुलने के बाद मंड क्षेत्र के लोगों पर मुसीबतों का पहाड़ भी टूट पड़ता है। अन्य क्षेत्रों से संपर्क के लिए मात्र नाव ही एक सहारा बचती है और विद्यार्थियों को स्कूल जाने के लिए रोजाना जान हथेली पर लेकर नाव को ही सहारा बनाते हैं। बाढ़ के डर से लोगों ने कई महीनों का राशन भी इकट्ठा कर लिया है, ताकि फिर शहर जाने के झंझट से बचा जा सके।

उल्लेखनीय है कि दरिया ब्यान पर बने अस्थाई पैंटून पुल को हटा दिए जाने के बाद मंड क्षेत्र के लगभग सोलह गावों ने टापू का रूप धारण कर लिया है। इसके बाद मंड क्षेत्र के लोगों पर तो जैसे मुसीबतों का पहाड़ ही टूट पड़ा है। हालांकि क्षेत्र के लोग अभी तक पुल को न हटाए जाने की मांग कर रहे थे और प्रशासन से बढि़या लकड़ी की कश्ती की मांग कर कहे थे ,परंतु प्रशासन की ओर से मंड निवासियों की आवश्यकता के विपरीत उपयोगी नाव मुहैया न करवाए जाने से टापू मंड क्षेत्र के लोगों को अब जरुरी कार्य के लिए टूटी फूटी नाव का सहारा रहेगा। पैंटून पुल हटाने से 16 गांव मुख्य धारा से कटे-पैंटून पुल हटा दिए जाने से क्षेत्र के सोलह गांव मुख्य धारा से कटे हुए हैं। और वहां का जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है।

नाव से पार करते समय 2013 में दो की हुई थी मौत


जानकारी के अनुसार 2010 में क्षेत्र के लोगों को पैंटून पुल बनवा कर सुविधा प्रदान की गई थी, परंतु बरसात शुरू होने से पहले इस पुल को हटा लिया जाता है। क़रीब चार वर्ष पूर्व नाव में सवार हो कर दरिया पार करते समय दो युवकों की मौत हो गई थी। क्षेत्र के विद्यार्थी जान जोखिम में डालकर स्कूल जाने को तैयार नहीं होते और न ही बिना किसी जरूरी कार्य के कोई वहां से निकलने की कोई हिम्मत जुटा पाता है।

दो माह तक नहीं स्कूल जा पाएंगे मंड क्षेत्र के विद्यार्थी

पैंटून पुल बंद हो जाने से अब दो माह तक विद्यार्थी शिक्षा प्राप्त करने हेतु बाहर के स्कूलों में नहीं जा पाएँगे, जिससे उनकी पढ़ाई भी निश्चित रूप से प्रभावित होगी। क्षेत्र में मात्र एक ही माध्यमिक सरकारी स्कूल है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Punjab Facebook Page:
Advertisement
Advertisement