Saand Ki Aankh Movie Review in Hindi-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Feb 23, 2020 2:34 pm
Location
Advertisement

Saand Ki Aankh Movie Review : चंद्रो और प्रकाशी के संघर्ष की कहानी, जाने कैसी है 'सांड की आंख'

khaskhabar.com : शुक्रवार, 25 अक्टूबर 2019 2:41 PM (IST)
Saand Ki Aankh Movie Review : चंद्रो और प्रकाशी के संघर्ष की कहानी, जाने कैसी है 'सांड की आंख'
कलाकार : भूमि पेडनेकर, तापसी पन्नू, विनीत सिंह, प्रकाश झा।
निर्देशक : तुषार हीरानंदानी।
लेखक : बलविंदर जनुजा।

बॉलीवुड में इस शुक्रवार को फिल्म सांड की आंख आज यानी 25 अक्टूबर को सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है। दिवाली हफ्ते में रिलीज हुई फिल्म 'सांड की आंख' दर्शकों को पसंद आ रही है। बॉलीवुड अभिनेत्री तापसी पन्नू (Taapsee Pannu) और भूमि पेडनेकर (Bhumi Pednekar) द्वारा अभिनीत यह फिल्म भारत की दो सबसे उम्रदराज शार्पशूटर चंद्रो और प्रकाशी तोमर की जिंदगी पर आधारित है। ये दोनों शार्पशूटर पूरे देश में शूटर दादी के नाम से जानी जाती हैं।

फिल्म में तापसी पन्नू और भूमि पेडनेकर दोनों अभिनेत्रियां बुजुर्ग शार्प शूटर प्रकाशी तोमर और चंद्रो तोमर के किरदार में हैं, जिन्होंने 60 साल की उम्र के बाद शूटिंग की प्रैक्टिस शुरू की और पूरी दुनिया में नाम कमाया। यह फिल्म भारत की सबसे उम्रदराज शार्पशूटर्स चंद्रो तोमर और प्रकाशी तोमर की बायॉग्रफी है जो दर्शकों को एक अच्छा और प्रेरक संदेश देती है।

कहानी : सांड की आंख फिल्म की कहानी पश्चिमी उत्तर प्रदेश के ग्रामीण परिवेश की है। फिल्म में आपको गांव का माहौल और सामाजिक संरचना भी देखने को मिलेगी। गांव की पितृसत्तातमक संरचना और उसे झेलती महिलाओं की परेशानियां भी देखने को मिलेंगी।

जोहरी गांव, बागपत की रहने वाली चंद्रो यानी भूमि पेडनेकर (Bhumi Pednekar) और प्रकाशी यानी तापसी पन्नू (Taapsee Pannu) देवरानी-जेठानी हैं जो गांव के पितृसत्तातमक समाज को पसंद नहीं करती हैं लेकिन उनका पालन पोषण ऐसा हुआ है कि वह उस परिस्थिति में भी खुद को ढाल लेती हैं और खुद के लिए थोड़ा बहुत समय निकाल लेती हैं।

60 साल की उम्र में जौहरी गांव की रहने वाली चंद्रो और प्रकाशी को अपना निशानेबाजी का टैलंट पता चलता है। इसके बाद डॉक्टर से शूटर बने डॉक्टर यशपाल (विनीत कुमार सिंह) उनकी मदद करते हैं। चंद्रो और प्रकाशी इसके बाद कई चैंपियनशिप में मेडल जीतती हैं। चंद्रो और प्रकाशी के इस शौक से उनके परिवार और गांव के पुरुषों से कैसे संघर्ष करते हुए सफलता पाती है बस यहीं कहानी है 'सांड की आंख'।

अभिनय :

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

1/3
Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement