Film Review: Attack-1: Commendable effort to make a film on this subject-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Aug 14, 2022 7:06 am
Location
Advertisement

फिल्म समीक्षा : अटैक-1: सराहनीय प्रयास है इस विषय पर फिल्म बनाना

khaskhabar.com : शुक्रवार, 01 अप्रैल 2022 1:25 PM (IST)
फिल्म समीक्षा : अटैक-1: सराहनीय प्रयास है इस विषय पर फिल्म बनाना
निर्माता : जयंतीलाल गढ़ा, जॉन अब्राहम, अजय कपूर, भौमिक गौंडालिया
निर्देशक : लक्ष्यराज आनन्द
कहानी : जॉन अब्राहम
पटकथा : लक्ष्यराज आनन्द, विशाल कपूर और सुमित बटेजा
सितारे : जॉन अब्राहम, रकुल प्रीत सिंह, जैकलीन फर्नांडिस और प्रकाश राज
—राजेश कुमार भगताणी

पिछले कुछ सप्ताहों से सिने परदे पर कुछ बेहतरीन और लाजवाब फिल्मों—गंगूबाई काठियावाड़ी, आरआरआर—को देखने के बीच एक कचरा फिल्म—बच्चन पांडे—को देखने के बाद इस सप्ताह जॉन अब्राहम की अटैक-1 देखी। जॉन अब्राहम की पिछली फिल्म सत्यमेव जयते भी कचरा फिल्म थी लेकिन उनकी अटैक-1 देखने के बाद हम भारत की पहली सुपर सोल्जर फिल्म बनाने के लिए जॉन अब्राहम और उनके साथियों की सराहना करते हैं। पूरी तरह से हॉलीवुड स्टाइल में बनी विज्ञान फंतासी अटैक-1 दर्शकों को पूरे समय अपने साथ बांधने में सफल होती है। हालांकि इस फिल्म की बॉक्स ऑफिस पर ओपनिंग कोई खास नहीं हुई है लेकिन यह माउथ पब्लिसिटी कें जरिये दर्शकों को अपने साथ जोडऩे में कामयाब होगी। इस फिल्म को दो सप्ताह का रनिंग टाइम मिला है। उम्मीद है कि अपने दो सप्ताह के कारोबार में यह फिल्म अपनी लागत वसूलने में सफल हो जाए।
क्या होता है जब एक सैनिक को लकवा मार जाता है? उसके साथ ऐसा करने वाले आतंकवादियों से बदला लेने के लिए उसमें जोश भरने की जरूरत है। तभी सरकार, देश को बचाने की गहरी इच्छा के साथ, एक नए तकनीकी नवाचार की ओर मुड़ती है - सुपर-सोल्जर! विज्ञान-कथा कोणों और उच्च-ऑक्टेन एक्शन के संयोजन के साथ, अटैक जॉन अब्राहम द्वारा निभाए गए एक अर्थबाउंड सुपर-सोल्जर का परिचय देता है, जो सामान्य मानव सीमाओं से परे काम कर सकता है। फिल्म में जैकलीन फर्नांडीज और रकुल प्रीत सिंह भी हैं।

ऐसा नहीं है कि हमने जॉन अब्राहम को इससे पहले इस तरह के किरदार में नहीं देखा है। वे इससे पहले भी अपने देश को दुश्मनों से बचाते हुए नजर आ चुके हैं। हमने उसे सत्यमेव जयते (1 और 2), रोमियो अकबर वाल्टर, रॉकी हैंडसम, फोर्स और फोर्स-2 और मद्रास कैफे में ठीक ऐसा ही करते हुए देखा है। लेकिन अटैक में जो सबसे अलग है वह है कहानी, सिनेमैटोग्राफी और अभिनेताओं का प्रदर्शन। यह जॉन की किसी भी फिल्म के लिए तकनीकी रूप से सबसे उत्कृष्ट फिल्म है।

जॉन (अर्जुन शेरगिल) के पास ढ्ढक्र्र नाम की एक चिप है, जो उसके अंदर लगाई गई है जो उसे चलने, लडऩे और मूल रूप से जीवित रहने में मदद करती है। उन्हें एक भव्य प्रयोगशाला में देखा जाता है जहाँ उनकी नसों को एक सुपर सीरम के साथ पंप किया जाता है। यह सब रकुल प्रीत सिंह द्वारा निभाई गई एक वैज्ञानिक की मदद से देश के दुश्मनों से लडऩे के लिए सुपर-सैनिकों की एक नई नस्ल बनाने के लिए है। जैकलीन ने जॉन की प्रेमिका की भूमिका निभाई है, लेकिन वह ज्यादा महत्त्वपूर्ण नहीं है।
डेब्यूटेंट निर्देशक लक्ष्य राज आनंद का साइंस-फिक्शन अटैक पूर्वी विचारों और पश्चिमी कहानी कहने का एक अभिनव लेकिन निष्क्रिय मैशअप है। इस फिल्म को देखते हुए दर्शकों के जेहन में हॉलीवुड की मार्वल सिनेमैटिक यूनिवर्स के किरदार जहन में घूमने लगते हैं। इसके बावजूद इस फिल्म की तकनीक दर्शकों को पसन्द आती है। भावनात्मक दृश्यों को भी निर्देशक लक्ष्य राज आनन्द ने अच्छे तरीके से फिल्माया है। उदाहरण के लिए, उस दृश्य को लें जहां अर्जुन को लकवा मार जाता है और वह असहाय रूप से अपनी मां को लुटेरों द्वारा पिटते हुए देखता है। या फिर जिस दृश्य में वह अपने प्यार को अपने सामने मरते हुए देखता है, वह आपके दिल को छू लेगा। ट्विस्ट को भी खूबसूरती से उकेरा गया है। हर बार जब आतंकवादी कोई कदम उठाते हैं, तो आप चौंक जाते हैं। अटैक-1 रोमांचकारी एक्शन स्टंट से भरी फिल्म है जिसे दर्शक पसन्द करेंगे। फिल्म में हास्य दृश्यों को भी जगह दी गई है। यह दृश्य दर्शकों को हंसाने में कामयाब होते है।
अटैक में इस्तेमाल किया गया वीएफएक्स भी शानदार है। यह आपको शुरू से ही आकर्षित करता है। हालाँकि, अंत में, यह बहुत अधिक हो जाता है। लक्ष्य ने एक्शन दृश्यों में एक अद्भुत काम किया है - वे नए जमाने के हैं और डिजिटल दुनिया में तकनीकी प्रगति का पूरा फायदा उठाते हैं। पटकथा सहज है और नाटक और शीनिगन्स आपका मनोरंजन करते रहते हैं।

जॉन अब्राहम वास्तव में अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन पर होते हैं जब वह राष्ट्रीय कर्तव्य पर होते हैं - चाहे वह एक जासूस के रूप में हो या एक निगरानीकर्ता के रूप में। वह एक आरामदायक सूट की तरह अटैक में देश के लिए अपने प्यार को पहनता है। वह सहजता से एक रोमांटिक प्रेमी से एक सैनिक में बदल जाता है और दोनों भूमिकाओं को पूरे विश्वास के साथ निभाता है। जैकलीन एक सहज प्रिय अभिनेत्री हैं, और उनका चरित्र जॉन के अधिक कट्टर दिग्गज के लिए एक अच्छी पन्नी है। रकुल एक वैज्ञानिक के रूप में अपनी भूमिका के साथ न्याय करती हैं।
भारत की पहली सुपर-सिपाही फिल्म के लिए, हम यह कह सकते हैं कि यह एक बुरा प्रयास नहीं है। जॉन अब्राहम की कास्टिंग के अलावा, अटैक अपने वीएफएक्स और नई अवधारणाओं के साथ सशक्त के साथ दर्शकों के सामने खड़ी है। फिल्म के सभी पात्र आधुनिक विज्ञान-फाई की एक परत में लेपित हैं। कभी-कभी, यह अपने दर्शकों को अंदर से तोडऩे की एक स्व-लगाई गई जिम्मेदारी से भी घिर जाता है। अटैक-1 के बरारे में इतना तो निश्चित तौर पर कहा जा सकता है कि इस विषय पर और कोई भारतीय फिल्म निर्माता फिल्म बनाने का जोखिम नहीं उठाता। जैसा कि फिल्म के एक दृश्य में प्रकाश राज कहते हैं यह एक अंतिम हमले का समय है, इस हमले के समय के लिए हमें अटैक-2 की प्रतीक्षा है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement