These miraculous benefits are due to the consumption of cloves -m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jul 3, 2022 8:12 pm
Location
Advertisement

लौंग के सेवन से होते हैं ये चमत्कारी फायदे

khaskhabar.com : रविवार, 30 जनवरी 2022 7:23 PM (IST)
लौंग के सेवन से होते हैं ये चमत्कारी फायदे
भारत में लौंग का इस्तेमाल मसाले के रूप में काफी प्रचलित है। लौंग भले ही आकार में छोटी होती है लेकिन इसके सेवन से सेहत को अनगिनत फायदे होते हैं। शताब्दियों से लौंग का उपयोग आयुर्वेदिक औषधियों में किया जाता है। लौंग में कई औषधीय गुण हैं, जो शरीर से जुड़ी परेशानियों को कम करने में मदद करते हैं। लौंग में भरपूर मात्रा में यूजेनॉल पाया जाता है, जो पेट की बीमारियों से राहत दिलाने के साथ तनाव को कम करने भी मदद करता है। रात को सोते समय गुनगुने पानी के साथ लौंग का सेवन रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाता है।
आइए डालते हैं एक नजर लौंग से होने वाले फायदों पर—
दूर करता है दाँतों का दर्द

लौंग खाने से दांत का दर्द ठीक होता है। लौंग में यूजेनॉल नामक तत्व दांतों के दर्द को कम करने का काम कर सकता है। यह प्लाक और कैरिज से भी दांतों को बचा सकता है। ऐसे में अगर आपके दांत में दर्द हो तो लौंग को अपने दांत के बीच में दबाकर रखें। इसके अलावा लौंग की कलियां ओरल माइक्रो ऑर्गेनिज्म (मुंह में उत्पन्न होने वाले सूक्ष्म जीवों) को 70 फीसदी कम कर सकती हैं। इसी वजह से कई टूथपेस्ट में लौंग का इस्तेमाल किया जाता है। लौंग का तेल भी विभिन्न पीरियडोंटल पैथोजेन से बचाव कर सकता है। यह वो बैक्टीरिया होते हैं, जो मसूड़ों में इंफेक्शन का कारण बनते हैं।
सर्दी-खांसी व इंफेक्शन को दूर करता है
लौंग में एंटीइंफ्लेमेटरी प्रभाव होता है, जो सर्दी और खांसी को कम कर सकता है। लौंग एक्सपेक्टोरेंट की तरह काम करता है, जो पूरे बलगम को मुंह से निकालकर ऊपरी श्वसन तंत्र को साफ कर सकता है। लौंग में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं। जिसका मतलब है कि यह बैक्टीरिया या अन्य सूक्ष्मजीवों से होने वाले संक्रमण से बचाव प्रदान कर सकता है। स्किन पर कहीं इंफेक्शन होने पर उस जगह लौंग का पेस्ट लगाने की सलाह दी जाती है।
एसिडिटी में राहत
सुबह खाली पेट लौंग के सेवन पाचन संबंधी समस्या को दूर करता है। लौंग पाचन एंजाइम के स्राव को बढ़ाते हैं, जो डाइजेशन से संबंधी परेशानियों से छुटकारा दिलाता है। इसका सेवन आंत में होने वाली जलन के स्तर को कम कर सकता है और अपच की समस्या को ठीक कर सकता है। लौंग पाचन संबंधी समस्या जैसे पेट का फूलना, गैस, अपच, मतली, डायरिया और उल्टी के लक्षणों से राहत दिला सकता है।
पिंपल्स व डायबिटीज में है कारगर
अगर ऑयली स्किन की वजह से चेहरे पर पिंपल्स हो गए है तो आप एलोवेरा जेल में लौंग का पेस्ट मिलाकर पिंपल्स पर लगाए। इससे पिंपल्स ठीक हो जाते हैं। मधुमेह रोगियों के लिए लौंग का सेवन फायदेमंद साबित होता है। लौंग मधुमेह को कुछ हद तक नियंत्रित कर सकती है। लौंग ब्लड ग्लूकोज को कम करके डायबिटीज को कंट्रोल कर सकता है।
कैंसर से बचाव
लौंग के एथिल एसीटेट अर्क में एंटी-ट्यूमर गतिविधि पाई गई है, जिस वजह से इसका इस्तेमाल कैंसर के जोखिम को कम करने के लिए किया जा सकता है। रिसर्च में लौंग के एंटी-ट्यूमर प्रभाव की क्षमता को जांचने के लिए अधिक शोध की सलाह दी गई है।
मोटापे व तनाव को दूर करने में करता है मदद
लौंग वजन कम करने में मदद कर सकता है। नियमित रूप से लौंग का सेवन वजन नियंत्रित करने के लिए किया जा सकता है। घरेलू उपाय के साथ ही वजन कम करने के लिए योग व एक्सरसाइज करना भी जरूरी है। लौंग में एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो तनाव की वजह से होने वाले पैथोलॉजिकल परिवर्तनों की रोकथाम में मदद कर सकता है। लौंग का तेल संचार प्रणाली को उत्तेजित यानी स्ट्यूमिलेट करता है और मानसिक थकावट व थकान को कम कर सकता है। इसे अनिद्रा, स्मृति हानि, चिंता और अवसाद को कम करने में सहायक माना जाता है।
लिवर व सिरदर्द के लिए फायदेमंद
लौंग के पानी का सेवन लिवर को फायदा पहुंचता है। लिवर इंजरी को कम करने में लौंग मदद कर सकता है। यह साइटोप्लाज्मिक एंजाइम्स में सुधार करके लिवर इंजरी से बचाव कर सकता है। सिरदर्द से राहत के लिए लौंग का उपयोग किया जाता है। लौंग का तेल सिर दर्द को कम करने में मदद कर सकता है। लौंग का तेल सूंघने से सिरदर्द कम हो सकता है।
अस्थमा
अस्थमा से होने वाली परेशानी को कम करने में लौंग सहायता कर सकता है। एक रिसर्च में सामने आया है कि लौंग में मौजूद ब्रोन्कोडायलेटर और इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गुणों की वजह से यह एंटी-अस्थमेटिक ड्रग जैसी क्षमता दिखा सकता है। लौंग के तेल की सुगंध नाक की नली को साफ करने में मदद करते हैं। साथ ही अस्थमा, खांसी, जुकाम, साइनस, ब्रोंकाइटिस जैसी समस्याओं को शांत कर सकते हैं।
पेट का अल्सर
पेट के अल्सर के इलाज में लौंग काफी मदद कर सकता है। यह अल्सर आमतौर पर पेट की सेफ्टी लेयर के कम हो जाने के कारण हो जाते हैं, जिसमें लौंग खाने से फायदा होता है।
हड्डियों के लिए लौंग
हड्डियों को मजबूत बनाने में लौंग सहायक हो सकता है। लौंग में मैंगनीज होता है, जो हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है। लौंग के हाइड्रोक्लोरिक अर्क में मौजूद यूजेनॉल हाइपोगोनैडल ऑस्टियोपोरोसिस (हड्डी संबंधी रोग) के खिलाफ लडक़र हड्डी-संरक्षण का कार्य कर सकता है।
टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन में मदद
लौंग का प्रयोग अगर संयमित मात्रा किया जाए, तो यह टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन में मदद कर सकता है। हालांकि, शोध में सामने आया है कि अगर इसका सेवन अधिक मात्रा में किया जाता है तो टेस्टोस्टेरोन उत्पादन को कमी भी आ सकती है।
कान का दर्द
कान के दर्द में लौंग के तेल का इस्तेमाल फायदा पहुंचाता है। कान के दर्द के लिए लौंग के तेल को उसमें मौजूद दर्द निवारक और एनेस्थेटिक नेचर की वजह से इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे थोड़े समय के लिए दर्द का एहसास कम व खत्म हो सकता है।

आलेख में दी गई जानकारियों को लेकर हम यह दावा नहीं करते कि यह पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement