Heat wave affects persons with comorbidities, children more-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jun 26, 2022 2:30 pm
Location
Advertisement

लू कॉमोरबिडिटी वाले व्यक्तियों, बच्चों को ज्यादा करती है प्रभावित

khaskhabar.com : रविवार, 01 मई 2022 10:39 AM (IST)
लू कॉमोरबिडिटी वाले व्यक्तियों, बच्चों को ज्यादा करती है प्रभावित
नई दिल्ली । राष्ट्रीय राजधानी सहित देश के कई हिस्से इन दिनों भीषण गर्मी की चपेट में हैं, जिससे लू और अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, अत्यधिक गर्मी के कारण विभिन्न प्रकार के हीट स्ट्रेस की स्थितियां बन सकती हैं, जैसे कि हीट स्ट्रोक और हृदय व श्वसन संबंधी विकार।

ईएसआई अस्पताल के डॉ. रोहन कृष्णन ने आईएएनएस को बताया, "दिल्ली अभी लू के दौर से गुजर रही है, और किसी को यह समझना चाहिए कि यह घातक भी हो सकता है, क्योंकि यह कई तरह की समस्याएं पैदा कर सकता है।"

कृष्णन ने कहा कि तीन श्रेणियों के लोगों के इस भीषण लू से प्रभावित होने की संभावना अधिक है।

कृष्णन ने आईएएनएस को बताया, "सबसे पहले युवा वयस्क और 13 वर्ष से कम उम्र के बच्चे शरीर में तरल पदार्थ की कमी के कारण इस गर्मी की लहर से आसानी से प्रभावित हो सकते हैं। दूसरे, 60 से अधिक उम्र के बुजुर्ग लोग हार्मोनल स्राव के कारण प्रभावित होते हैं और तीसरे, वे लोग जिन्हें कई तरह की बीमारियां हैं या जो दवा या कैंसर के मरीज हैं। इस प्रकार के लोगों को इस गर्मी की लहर के दौरान अतिरिक्त देखभाल और ध्यान देने की जरूरत है।"

उन्होंने कहा कि अत्यधिक गर्मी हाइपरथर्मिया का कारण बन सकती है, जो खांसी और सर्दी या किसी भी संक्रमण के लक्षणों के बिना शरीर का उच्च तापमान है, लेकिन इससे निर्जलीकरण, भूख न लगना, उल्टी, मतली और कई अन्य प्रकार की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

डॉक्टर ने कहा, हाइपरथर्मिया के अलावा, यह डर्मेटाइटिस, हीट एडिमा, हीट स्ट्रोक और हाइपोटेंशन भी पैदा कर सकता है।

लू के दौरान ऐसी स्वास्थ्य समस्याओं से बचने के लिए डॉक्टर कृष्णन ने ज्यादा से ज्यादा पानी पीने की सलाह दी, क्योंकि पसीना शरीर में पानी की कमी का मुख्य कारण है।

उन्होंने बाहरी वातावरण से घर के अंदर प्रवेश करने के बाद ठंडा पानी पीने से बचने की सलाह दी, क्योंकि इससे गले में संक्रमण भी हो सकता है और परिणामस्वरूप, चल रहे कोविड के बढ़ते मामलों के दौरान, किसी भी तरह के गले के संक्रमण और जलन से व्यक्ति को कोविड संक्रमण का खतरा हो सकता है।

डॉ. कृष्णन ने कहा, "हमें पानी का सेवन काउंटर चेक करना होगा। गर्मियों में रोजाना कम से कम 4-6 लीटर पानी की जरूरत होती है। गर्मी की लहर के दौरान जब आप बाहर से आते हैं, तो आपको बहुत अधिक ठंडा पानी नहीं पीना चाहिए, क्योंकि इससे गले में संक्रमण हो सकता है और इस कोविड स्थिति में किसी भी प्रकार के गले के संक्रमण और जलन से आपको कोविड संक्रमण होने का अधिक खतरा हो सकता है। अधिकतम गर्मी सुबह 11 बजे से दोपहर 3 बजे के बीच रहती है, इसलिए आपको दिन के समय बाहर जाने से बचना चाहिए।"

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement