Brain tumor patients should not delay taking covid wax-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Aug 5, 2021 4:45 pm
Location
Advertisement

ब्रेन ट्यूमर के मरीजों को कोविड वैक्स लेने में देरी नहीं करनी चाहिए

khaskhabar.com : मंगलवार, 08 जून 2021 3:08 PM (IST)
ब्रेन ट्यूमर के मरीजों को कोविड वैक्स लेने में देरी नहीं करनी चाहिए
हैदराबाद। डॉक्टरों का कहना है कि कीमोथेरेपी के दौर से गुजर रहे ब्रेन ट्यूमर के रोगियों को कोविड 19 के टीके लेने में देरी नहीं करनी चाहिए क्योंकि वे संक्रमण की चपेट में हैं।

ब्रेन ट्यूमर के रोगियों, विशेष रूप से घातक ब्रेन ट्यूमर के रोगियों को उच्च जोखिम वाली श्रेणी में रखा जा सकता है, क्योंकि कीमोथेरेपी प्रतिरक्षा प्रणाली से समझौता करती है। इस वजह से वे कोविड के प्रति अधिक संवेदनशील हो जाते हैं।

विश्व ब्रेन ट्यूमर दिवस के अवसर पर, स्वास्थ्य विशेषज्ञ कमजोरियों के कारण ऐसे सभी मरीजों को जल्द से जल्द कोविड 19 टीकाकरण का विकल्प चुनने की सलाह देते हैं।

कोविड 19 वायरस के बड़े परिवार में एक नया रूप है, जिसे कोरोनवायरस कहा जाता है। यह बीमारी फ्लू जैसे लक्षणों का कारण बनती है, जिसमें प्रमुख जटिलता श्वसन प्रणाली के प्रभाव से उत्पन्न होती है।

60 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों, और पुरानी स्थितियों और समझौता प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में वायरस के अनुबंध के साथ साथ संक्रमण के बाद अधिक गंभीर बीमारी होने का अधिक जोखिम होता है।

राजशेखर रेड्डी कोंडा, कॉन्टिनेंटल अस्पताल के सलाहकार (न्यूरोसर्जन) ने कहा, "जो लोग पहले से मौजूद कुछ स्वास्थ्य स्थितियों से पीड़ित हैं, उन्हें इस नोवल कोरोनवायरस के कारण अधिक नुकसान होने की संभावना है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि ऐसे व्यक्ति अपनी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए जल्द से जल्द वैक्सीन शॉट लें।"

एसएलजी अस्पताल के सलाहकार (न्यूरो और स्पाइन सर्जन) राघवेंद्र एच. का विचार है कि '' मानव प्रतिरक्षा प्रणाली को बीमारियों का जवाब देने या वायरस के खिलाफ कार्य करने के लिए उच्च स्तर पर काम करने की आवश्यकता है और ये टीके वही आवश्यक सुरक्षा प्रदान करते हैं। ये वैक्सीन शॉट्स रेडियोथेरेपी, इम्यूनोथेरेपी के साथ साथ हार्मोनल थेरेपी से गुजर रहे लोगों को दिए जा सकते हैं। हालांकि, यह महत्वपूर्ण है कि ऐसे मरीज वैक्सीन शॉट लेने के लिए एक बार अपने डॉक्टर से सही चिकित्सा सलाह लें ले। ऐसा इसलिए करें क्योंकि हो सकता है उपचार के दौरान जब टीके के अन्य समयों की तुलना में सबसे अधिक प्रभावी होने की संभावना हो तो डॉक्टर स्थिति को संभाल सकें।''

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement