Short video app Bolo Indya launches P2P commerce service-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Dec 4, 2020 8:32 pm
Location
Advertisement

शॉर्ट वीडियो ऐप बोलो इंडिया ने लॉन्च किया P2P कॉमर्स सर्विस

khaskhabar.com : मंगलवार, 27 अक्टूबर 2020 7:04 PM (IST)
शॉर्ट वीडियो ऐप बोलो इंडिया ने लॉन्च किया P2P कॉमर्स सर्विस
नई दिल्ली। शॉर्ट वीडियो कॉन्टेंट प्लेटफॉर्म-बोलो इंडिया ने मंगलवार को बोलो मीट्स को लॉन्च करने की घोषणा की। इसकी शुरूआत इंडस्ट्री के सक्रिय क्रिएटर्स की अगुवाई में बड़े यूजर्स बेस कोबोलो इंडिया के प्लेटफॉर्म पर पियर टु पियर कॉमर्स सर्विस क्षमता का लाभ उठाने के काबिल बनाने के लिए की गई। बोलो इंडिया कॉन्टेंट सर्विसेज देने के सेग्मेंट में काफी गहराई से प्रवेश कर गया है। यहां क्रिएटर-पार्टनर्स अपनी स्पेशल कंटेंट बेस्ड सर्विसेज का विपणन सीधे अपने फॉलोअर बेस तक कर सकते हैं। फिलहाल इस प्लेटफॉर्म के 65 लाख से ज्यादा यूजर्स हैं, जिसमें 28 लाख क्रिएटर्स शामिल हैं।

यह प्लेटफॉर्म 14 भाषाओं में सुविधाएं प्रदान करता है। अपनी इस अनोखी सर्विस के ऑफर के साथ बोलो इंडिया को उम्मीद है कि कंपनी के इस प्लेटफॉर्म पर क्रिएटर्स की संख्या मार्च 2021 तक 300 फीसदी बढ़ जाएगी।

बोलो मीट्स के एक हिस्से के तौर पर क्रिएटर-पार्टनर्स को इस प्लेटफॉर्म पर एक एक्सट्रा फीचर मिलेगा, जिससे वह स्पेशल स्किल बेस्ड सर्विसेज को क्रिएट कर अपने फॉलोअर्स बेस तक उसकी मार्केटिंग कर सकते हैं। प्राइवेट वीडियो चैट रूम में आयोजित सेशन में किसी खास व्यक्ति से बातचीत जा सकती है। ज्यादा से ज्यादा 10 लोगों के लिए ग्रुप विडियो सेशन का भी प्रबंध किया जा सकता है। अपने पसंदीदा क्रिएटर्स के सेशन में माइक्रो पेमेंट्स से जगह बुक कर के यूजर्स इस विडियो सेशन में शामिल हो सकते हैं।

बोलो मीट्स ऐप पर सबसे ज्यादा डिमांड में शामिल लोकप्रिय कैटेगरीज में ज्योतिष, फिटनेस, म्यूजिक, डांस, इंस्ट्रूमेंट्स, कॉमेडी, पर्सनल फाइनेंस, रिलेशनशिप और मेंटल वेलनेस शामिल हैं। पर्सनलाइज्ड एस्ट्रोलॉजी की सर्विस लेने के इस सेशन में शामिल होने के लिए कम से कम 100 रुपये का औसत टिकट लेना होगा। अगर कोई व्यक्ति इस प्लेटफॉर्म पर कोई लैंग्वेज या डांस सीखना चाहता है तो उसे 5000 रुपये तक खर्च करने पड़ सकते हैं।

बोलो इंडिया के सीईओ और संस्थापक वरुण सक्सेना ने कहा, हम बोलो इंडिया प्लेटफॉर्म को यूजर्स के एक बड़े सेक्शन के लिए खोल रहे हैं तो इससे हम न केवल क्रिएटर्स और पार्टनर्स की आर्थिक स्वतंत्रता के सफर को रचनात्मक रूप से आगे बढ़ाएंगे, बल्कि दूर-दराज के क्षेत्रों में बैठे हर भारतीय को भी सशक्त बनाएंगे। इससे यूजर्स अपने क्षेत्र की संस्कृति, भाषा और उम्मीदों को जानने और समझने वाले क्रिएटर्स की सर्विसेज हासिल करने, उनसे सीखने और आगे बढ़ने के काबिल हो पाएंगे। हमारा उद्देश्य देश के टैलेंटेड क्रिएटर्स के लिए अपनी इनकम बढ़ाने के नए नए रास्ते खोलना है। इसी के साथहम उन्हें एक ऐसा प्लेटफॉर्म देना चाहते है, जहां वह अपने शौक को फॉलोकर अपनी जिंदगी में तरक्की कर सकें। (आईएएनएस)

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement