Four accused of interstate loot gang arrested in Udaipur-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Dec 13, 2019 12:46 pm
Location
Advertisement

अंतरराज्यीय नकबजनी गैंग के चार आरोपी गिरफ्तार, सोने चांदी के जेवर बरामद

khaskhabar.com : सोमवार, 02 दिसम्बर 2019 7:24 PM (IST)
अंतरराज्यीय नकबजनी गैंग के चार आरोपी गिरफ्तार, सोने चांदी के जेवर बरामद
सैयद हबीब
उदयपुर।
उदयपुर में हिरणमगरी थाना पुलिस ने सोमवार को अंतरराज्यीय चोर गैंग का खुलासा किया है। पुलिस ने गैंग के चार लोगों को गिरफ्तार कर उनके पास से आधा किलो सोने के जेवर, ढाई किलो चांदी, 48 हजार रुपए नकद, फर्जी नंबर प्लेट लगी होंडा सिटी कार व विदेशी करेंसी बरामद की है। गिरफ्तार अभियुक्तों में बरेली उत्तर प्रदेश निवासी शहजाद खान उर्फ राजा, जुबैर खान, अजहर अली व सरफ राज रजा का नाम शामिल हैं। इन अभियुक्तों से पुलिस ने चोरी की 350 वारदातों का खुलासा करने का दावा किया है। इनमें हिरणमगरी क्षेत्र सहित उदयपुर के कई इलाकों में की गई चोरी की वारदातें शामिल हैं।
कार्यक्षेत्र -उत्तर प्रदेश में लखनऊ, वाराणासी, प्रतापगढ़, कानपुर, बिहार में पटना, औरंगाबाद, राजस्थान में जयपुर, उदयपुर, राजसमंद, माउंट आबू व गुजरात में सांबरकांटा जिले में इन अभियुक्तों ने चोरी की वारदातों को अंजाम दिया है।
काम करने का तरीका - ये अभियुक्त दिन में सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे के बीच ही चोरी की वारदात को अंजाम देते। चोरी सुने पड़े फ्लेटों में ही करते थे। पहले फ्लेटों में घूमकर रैकी करते। दिन में ताला लगा होने वाले फ्लेटों की पूरी पड़ताल करने के बाद वारदात को अंजाम देते थे। वारदात के समय एक बुजुर्ग व्यक्ति साथ रखते थे ताकि किसी को शक न हो। ये ताला तोड़कर अंदर घुसते थे और सोने चांदी के जेवर लेकर फरार हो जाते थे। रास्ते में बाइक या कार में चलते ही बेकार सामान को फेंक देते थे। वारदात को अंजाम देने के बाद दूसरे शहर में शिफ्ट हो जाते थे। किसी भी शहर में सस्ती होटल में किराये पर रहते थे।
इन वारदातों का खुलासा - पुलिस के सामने अभियुक्तों ने उदयपुर हिरणमगरी सर्कल में साकेत कॉपलेक्स, पैराडाइज अपार्टमेंट, राजविला अपार्टमेंट, राजसमंद व नाथद्वारा में भी चोरी की वारदातों का खुलासा किया है। जयपुर में जवाहर नगर स्थित गोलमार्केट में फ्लेटों में 5 से अधिक चोरी की वारदातों का खुलासा किया है। पुलिस अधीक्षक कैलाशचंद विश्नोई ने बताया कि चोरी की वारदातें दर्ज होने के बाद विशेष टीम का गठन किया गया। संदिग्ध नंबरों को सर्विलांस पर रखा गया। मुखबिर की सूचना के आधार पर अभिय़ुक्तों की गिरफ्तारी हो सकी।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement