Telangana dialect gets recognition in Telugu cinema-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Nov 30, 2021 5:32 am
Location
Advertisement

तेलुगू सिनेमा में तेलंगाना बोली को मिली पहचान

khaskhabar.com : शनिवार, 16 अक्टूबर 2021 2:14 PM (IST)
तेलुगू सिनेमा में तेलंगाना बोली को मिली पहचान
हैदराबाद। तेलंगाना राज्य के गठन से पहले दशकों तक, इस क्षेत्र में इस्तेमाल की जाने वाली तेलुगू बोली को तेलुगू फिल्म निमार्ताओं और अभिनेताओं द्वारा मुख्यधारा नहीं माना जाता था। तेलंगाना बोली का इस्तेमाल अक्सर एक चरित्र का उपहास करने के लिए किया जाता था, और अलग राज्य के लिए आंदोलन में शामिल लोगों द्वारा इस चित्रण को बार-बार आक्रामक माना जाता था। अकेले तेलंगाना आंदोलन पर बनी फिल्में 2014 से पहले स्थानीय बोली में थीं, लेकिन अब चीजें बदल गई हैं।

तेलुगू सिनेमा में एक बड़ा नाम शेखर कम्मुला का है, जिन्होंने पिछले डेढ़ दशक से पहले की प्रचारित बोली का उपयोग करके फिल्में बनाई हैं। उन्होंने स्थानीय बोली का उपयोग करके तेलंगाना में एक फिल्म बनाकर एक अज्ञात रास्ता अपनाया है। वरुण तेज और साई पल्लवी अभिनीत उनकी पहली ऐसी फिल्म 'फिदा' सुपरडुपर हिट हुई थी।

भाषा की विविधता के बाबजूद फिल्म को तेलंगाना, रायलसीमा और आंध्र क्षेत्रों के लोगों द्वारा खूब सराहा गया। तेलंगाना के स्वाद से भरपूर उनकी नवीनतम फिल्म 'लव स्टोरी' ने बॉक्स ऑफिस पर जबरदस्त कमाई की है।

'अस्सलेम जरीगिंडी' के निर्माता, किंग जॉनसन ने कहा कि जब मैंने तेलंगाना क्षेत्र के मूल निवासी पर एक फिल्म की पटकथा लिखने का फैसला किया, तो मुझे कोई संदेह नहीं था कि लोग इसका स्वागत करेंगे या नहीं। मैं तेलंगाना की बोली जानता हूं और तेलंगाना के रीति-रिवाज और प्रथाएं अब मुख्यधारा के तेलुगु सिनेमा का हिस्सा हैं। 'अस्सलेम जरीगिंडी' तेलंगाना में विभिन्न स्थानों पर फिल्माई गई एक फिल्म है। यह 22 अक्टूबर को सिनेमाघरोंमें रिलीज के लिए तैयार है।

उन्होंने कहा कि मेरी फिल्म में 'कल्लू' (ताड़ी-तेलंगाना में प्रमुख एक पेय है) पर एक गाना भी है और मुझे विश्वास है कि यह आकर्षक गाना जनता के बीच हिट होगा।

तेकमल श्रीकर रेड्डी, तेलुगु फिल्म उद्योग में एक कार्यकारी निमार्ता ने कहा कि पहले वरुण तेज, अब नागा चैतन्य, कई प्रमुख अभिनेता और अभिनेत्रियां तेलंगाना-केंद्रित स्क्रिप्ट पर काम कर रहे हैं। मेगा (चिरंजीवी) परिवार, अक्किनेनी परिवार और तेलुगु सिनेमा में हर दूसरे प्रसिद्ध परिवार के युवा कलाकार अब अनेक भाषाओं में काम करने के लिए स्वतंत्र हैं। जबकि उनके पूर्ववर्तियों ने ऐसा नहीं किया है। यह एक स्वागत योग्य कदम है, जो इन दो राज्यों के भीतर कई क्षेत्रों के बीच सांस्कृतिक अंतर को पाटने में मदद करेगा।

तेलंगाना आंदोलन ने स्कूली पाठ्यपुस्तकों में भेदभाव, राज्य द्वारा स्वीकृत सांस्कृतिक उत्सवों, प्रशासनिक गतिविधियों में कुछ प्रकार के तेलुगू के सक्रिय समर्थन पर प्रकाश डाला, जिसमें तेलुगु भाषा की विषम प्रकृति की अनदेखी की गई है।

इस आंदोलन ने तेलुगु सिनेमा को उद्योग के आधिपत्य वाले ढांचे और सीमा-आंध्र के प्रभुत्व वाले राजनीतिक तंत्र से इसके संबंधों पर हमला करके भी जवाब दिया है। (आईएएनएस)

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement