Shradh 2019 : pitru shradha paksha 2019 twelve types of Shradh Slide 2-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Sep 28, 2020 5:33 am
Location
Advertisement

Shradh 2019 : 12 तरह के होते हैं श्राद्ध कर्म, जानिए-हर एक का मतलब

khaskhabar.com : गुरुवार, 19 सितम्बर 2019 2:24 PM (IST)
Shradh 2019 : 12 तरह के होते हैं श्राद्ध कर्म, जानिए-हर एक का मतलब
नित्य श्राद्ध : पितृपक्ष के दिनों में रोजाना जल, अन्न, दूध से श्राद्ध करने से पितर प्रसन्न होते हैं।

नैमित्तिक श्राद्ध : माता-पिता की मृत्यु के दिन यह श्राद्ध किया जाता है।

काम्य श्राद्ध : यह श्राद्ध विशेष सिद्धि की प्राप्ति के लिए किया जाता है।

वृद्धि श्राद्ध : सौभाग्य और सुख में कामना कामने के लिए वृद्धि श्राद्ध किया जाता है।

सपिंडन श्राद्ध : यह मृत व्यक्तियों को 12वें दिन किया जाता है। इसे महिलाएं भी कर सकती है।

शुद्धयर्थ श्राद्ध : पितृपक्ष में किया जाने वाले यह श्राद्ध परिवार की शुद्धता के लिए किया जाता है।

गोष्ठी श्राद्ध : जो श्राद्ध परिवार के सभी सदस्य मिलकर करते हैं उसे गोष्ठी श्राद्ध कहा जाता है।

पार्वण श्राद्ध : इस को पर्व की तिथि पर किया जाता है। इसलिए इसे पार्वण श्राद्ध कहा जाता है।

यात्रार्थ श्राद्ध : जो श्राद्ध यात्रा की सफलता के लिए किया जाता है उसे याश्रार्थ श्राद्ध कहा जाता है।

पुष्टयर्थ श्राद्ध : जो श्राद्ध आर्थिक उन्ननि के लिए किए जाते हो इसे पुष्टयर्थ श्राद्ध कहा जाता है।

कर्मांग श्राद्ध : किसी संस्कार के मौके पर किया जाने वाले श्राद्ध कर्मांग श्राद्ध कहलाता है।

तीर्थ श्राद्ध : किसी तीर्थ पर किये जाने वाला श्राद्ध तीर्थ श्राद्ध कहा जाता है।

अगर किसी को अपने परिजन की मृत्यु की तिथि सही-सही मालूम ना हो तो इसका श्राद्ध अमावस्या तिथि को किया जाना चाहिए।

ये भी पढ़ें - इन बातों का रखें ध्यान, भरे रहेंगे धन के भंडार

2/2
Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement