The censors will not let the pain of the Holi dissolve the fear of Corona in the color of Holi -m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
May 7, 2021 12:06 pm
Location
Advertisement

सेंसर पिचकारी नहीं पड़ने देगी होली के रंग में कोरोना के डर का भंग

khaskhabar.com : मंगलवार, 23 मार्च 2021 2:00 PM (IST)
सेंसर पिचकारी नहीं पड़ने देगी होली के रंग में कोरोना के डर का भंग
वाराणसी। दोबारा कोरोना की आहट से जहां सरकार चिंता में है तो दूसरी ओर लोगों को रंगों के त्योहार होली के फीका होने का डर सताने लगा है। होली में उचित दूरी का पालन करना भी कठिन है। ऐसे में प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के युवाओं ने एक ऐसी पिचकारी का निर्माण किया है जो सोशल डिस्टेंसिंग को बरकरार रखते हुए होली का रंग जमायेगी। ये विशेष सेंसर युक्त पिचकारी बिना एक दूसरे को छुए रंग से भिगोएगी और जैसे ही लोग उचित दूरी का नियम तोड़ेंगे तो अगाह करेगी।

अशोका इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट के छात्र विशाल पटेल ने इस पिचकारी का निर्माण किया है। उन्होंने आईएएनएस से विशेष बातचीत में बताया कि होली का पर्व कोरोना के चलते फीका न पड़े, इस कारण हमने एक एंटी कोरोना पिचकारी बनाई है, जो सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन का पालन तो करेगी ही, साथ ही लोंगों पर रंगों की बौछार भी करेगी।

उन्होंने बताया कि पिचकारी को ऊपर छत पर घर के सामने रखा जाएगा। इसके सामने आते ही इसके सेंसर एक्टिव हो जाएंगे और लोगों पर कलर फेंकने लगेंगे। जब तक पिचकारी के सामने कोई नहीं आएगा, तब तक यह बंद रहेगा। सामने आते ही रंगों की बारिश करने लगेगा। यह मानव रहित पिचकारी कोरोना से लड़ने में बहुत सहायक होगी। इसके अलावा इसका प्रयोग सैनिटाइज करने में भी किया जा सकता है। इस पिचकारी को बनाने में 15 दिन लगे हैं। इसमें एक बार में 8 लीटर रंग भरा जा सकता है। इसमें 12 वोल्ट की एक बैट्री, इंफ्रारेड सेंसर, अल्ट्रा सोनिक सेंसर, स्विच, एलइडी लाइट का प्रयोग कर इसे बनाया गया है। इसे बनाने में 750 रूपये का खर्च आया है।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

1/2
Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement