Amazing dual citizenship for Myanmar citizens! Know why Slide 2-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Aug 24, 2019 10:02 pm
Location
Advertisement

म्यांमार में खाते हैं खाना और सोते हैं भारत में!

khaskhabar.com :
म्यांमार में खाते हैं खाना और सोते हैं भारत में!
लोंगवा गांव के राजा की फैमिली भी काफी बडी है, जिसमें उनकी 60 बीवियां भी शामिल हैं। वहीं, राजा का बेटा म्यांमार आर्मी में है। भारत-म्यांमार सीमा पर होने के कारण यहां के लोगों को तकनीकी तौर दोनों ही देशों की नागरिकता मिली हुई है। ऎसे में इन्हें म्यांमार जाने के लिए न तो वीजा की जरूरत होती है और न ही भारतीय पासपोर्ट की। यहां के लोग दोनों ही देशों में स्वतंत्र रूप से घूम सकते हैं। इस ट्राइब्स के लोगों को हेड हंटर्स के नाम से भी जाना जाता है। पहले ये लोग इंसानों को मारकर उसके सिर को अपने साथ ले जाते थे। हालांकि,1960 के दशक बाद यहां हेड हंटिंग नहीं होती है, लेकिन लोगों के घरों में सजाए गए खोपडियों को देखा जा सकता है। इनकी संख्या अन्य दूसरे जनजातियों की तुलना में काफी ज्यादा है। वहीं, इनकी भाषा नागमिस है, जो नागा और आसामी भाषा से मिलकर बनी है। बता दें कि नागालैंड के लोंगवा गांव में ऎसा ही होता है, जहां पर कोन्याक जनजाति के लोग रहते हैं।

2/2
Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
Advertisement
Advertisement