विश्व चैंपियनशिप : सायना क्वार्टर फाइनल में, श्रीकांत की चुनौती थमी

नानजिंग (चीन)। विश्व जूनियर चैम्पियन रहीं भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी सायना नेहवाल ने गुरुवार को अपनी चिर प्रतिद्वंद्वी थाईलैंड की दिग्गज रतचानोक इंतानोन को हराकर विश्व बैडमिंटन चैम्पियनशिप के क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया है, जहां उनका सामना स्पेन की कैरोलीना मारिन से होगा। पिछले साल इस चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाली वल्र्ड नम्बर-10 सायना ने आठवीं बार क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई है। उन्होंने 2015 में रजत पदक जीता था। सायना ने 47 मिनट तक चले मैच में वल्र्ड नम्बर-4 रतचानोक को सीधे गेमों में 21-11, 21-19 से मात दी। पहले गेम में दोनों खिलाडिय़ों ने ही अच्छी शुरुआत की। दोनों 5-5 से बराबरी पर थीं। इसके बाद सायना ने खेल में वापसी की और रतचानोक के खिलाफ 15-11 की बढ़त बनाई। इस बढ़त को भारतीय खिलाड़ी ने बरकरार रखते हुए पहला गेम 21 मिनट में 21-16 से जीत लिया। दूसरे गेम में भी सायना ने अपना अच्छा प्रदर्शन जारी रखा और 9-4 से अच्छी बढ़त बनाई। इस बीच रतचानोक अपनी लय में लौटने की कोशिश कर रहीं थी और इसके तहत उन्होंने स्कोर 12-10 किया। वह दो अंक दूर थीं। सायना हार मानने के लिए तैयार नहीं थी। उन्होंने एक बार फिर अंक बटोरे और रतचानोक के खिलाफ स्कोर 18-13 कर लिया। यहां रतचानोक ने अच्छी वापसी कर स्कोर 19-19 से बराबर किया। भारतीय खिलाड़ी सायना ने दो अंक बटोरने के साथ ही इस गेम को 21-19 से जीतकर क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई, जहां उनका सामना अपनी दूसरी चिर प्रतिद्वंद्वी स्पेन की कैरोलीना मारिन से होगा।इस बीच, बड़ा उलटफेर करते हुए भारतीय मिश्रित युगल जोड़ी अश्विनी पोनप्पा और सात्विक साईराज रंकीरेड्डी ने क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया है। सात्विक-अश्विनी की वल्र्ड नम्बर-40 जोड़ी ने मिश्रित युगल के तीसरे दौर में मलेशिया की शेवोन जेमी लाई और गोह सून हुआत की जोड़ी को मात दी। भारतीय जोड़ी ने पहला गेम 20-22 से हारने के बाद बाकी के दोनों गेमों में शेवोन और सून की वल्र्ड नम्बर-7 जोड़ी को 21-14, 21-6 से हराकर क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया। क्वार्टर फाइनल में अश्विनी और सात्विक की जोड़ी का सामना चीन की झेंग सुवेई और हुआंग याकियोंग से होगा।
Share this article

यह भी पढ़े

टेस्ट सीरीज से बाहर हुए कमिंस व हैजलवुड, ये ले सकते हैं जगह

शनाका ने गेंदबाजी नहीं बल्लेबाजी में किया कमाल, श्रीलंका जीता