विश्व चैंपियनशिप आज से, भारत को सिंधु, सायना व श्रीकांत से उम्मीद

नानजिंग (चीन)। यहां सोमवार से शुरू होने जा रही बीडब्ल्यूएफ विश्व चैम्पियनशिप में भारत की उम्मीदों का भार स्टार खिलाड़ी पी. वी सिंधु, सायना नेहवाल और किदांबी श्रीकांत पर होगा। भारतीय खिलाडिय़ों पर वल्र्ड चैम्पियनशिप में खिताब के सूखे को भी खत्म करने का दबाव होगा। सायना ने 2015 जबकि सिंधु ने 2017 में रजत पदक पर कब्जा किया था। सायना ने 2015 में कांस्य पदक भी जीता था जबकि सिंधु ने 2013 और 2014 में यही पदक हासिल किया था। इस वर्ष 23 वर्षीय सिंधु का प्रदर्शन मिला-जुला रहा है। वे 2017 के अपने शानदार प्रदर्शन को दोहराने में कामयाब नहीं हो पाई जब उन्होंने बीडब्ल्यूएफ प्रोफेशनल टूर के तीन खिताब अपने नाम किए थे। उन्हें इंडिया ओपन, थाईलैंड ओपन और राष्ट्रमंडल खेलों के फाइनल में हार का सामना करना पड़ा था। भारत की तीसरी वरीय खिलाड़ी अपने अभियान की शुरुआत फिट्रियानी या लिंडा जेटचिरी के खिलाफ करेंगी। अगर सिंधु इस मैच में बाधा को पार कर पाती हैं तो दक्षिण कोरिया की सुंग जी ह्युन को हराना उनके लिए बड़ी चुनौती होगी। क्वार्टर-फाइनल में सिंधु का सामना मौजूदा विश्व चैम्पियन नोजोमी आकुहारा से हो सकता है। 28 वर्षीय सायना नेहवाल अपने पहले मैच में तुर्की की अलीये डेमिरबाग से सामना करेंगी। पहले राउंड के बाद सायना का सामना थाईलैंड की रैचथानोक इंथानोन और स्पेन की कैरोलिना मारिन जैसी शीर्ष स्तरीय खिलाडिय़ों से हो सकता है। मलेशिया के महान खिलाड़ी ली चोंग वेई के टूर्नामेंट से नाम वापस लेने के बाद पांचवी वरीय श्रीकांत टूर्नामेंट में सेमीफाइनल तक का सफर आसानी से तय कर सकते हैं। अपने पहले मैच में वे आयरलैंड के नहाट न्गुयेन से भिड़ेंगे जबकि तीसरे दौर में उनका मुकाबला इंडोनेशिया के जोनाथन क्रिस्टी से हो सकता है। एच. एस. प्रणॉय को इस टूर्नामेंट में 11वीं वरीयता दी गई है और पहले दौर में वे ऑस्ट्रेलिया के अभिनव मनोटा का सामना करेंगे। दूसरे दौर में वे हांगकांग के वोंग विंग की विंसेट से भिड़ सकते हैं, इसके बाद क्वार्टर फाइनल में उन्हें चीन के शी युकी या दिग्गज खिलाड़ी लिन डैन का सामना करना पड़ सकता है।
Share this article

यह भी पढ़े

टेस्ट सीरीज से बाहर हुए कमिंस व हैजलवुड, ये ले सकते हैं जगह

शनाका ने गेंदबाजी नहीं बल्लेबाजी में किया कमाल, श्रीलंका जीता