शिलांग में कई इलाकों में अब भी कर्फ्यू, इंटरनेट सेवा बंद

शिलांग। मेघालय की राजधानी शिलॉंग पुलिस छावनी में बदला हुआ है। पिछले चार दिनों से शिलॉंग में बवाल मचा हुआ है। कल दिनभर की शांति के बाद रात को सुरक्षाबलों पर फिर से पेट्रोल बम से हमले की खबर है जिससे तनाव बढ़ गया है। अभी भी कई इलाकों में कर्फ्यू लगा हुआ है। हिंसा के बाद सुरक्षाबल मुस्तैदी से खड़े हैं। इस बीच, मेघालय के मुख्यमंत्री कॉनराड के. संगमा ने कहा कि गुरूवार को भडक़ी हिंसा स्थानीय मुद्दे की वजह से हुई थी और यह सांप्रदायिक प्रकृति की हिंसा नहीं थी। पंजाबी लाइन में रहने वाले लोगों और खासी समुदाय से संबंध रखने वाले सरकारी बस कर्मियों के बीच हुई झड़पों के मद्देनजर शिरोमणि अकाली दल के नेताओं की एक टीम दिल्ली से यहां पहुंची। अधिकारियों ने बताया कि पूर्वी खासी हिल्स जिले के अधिकारियों ने सुबह आठ बजे से दोपहर तीन बजे तक कफ्र्यू में ढील दी ताकि गिरजाघर जाने वाले लोग रविवार की प्रार्थना में हिस्सा ले सकें। संगमा ने यहां प्रेस कांफ्रेंस में बताया, ‘समस्या एक खास इलाके में एक खास मुद्दे को लेकर हुई। दो समुदाय इसमें शामिल थे, लेकिन यह सांप्रदायिक प्रवृति की चीज नहीं थी।’ उन्होंने कहा कि निहित स्वार्थ वाले संगठनों और राज्य से बाहर की मीडिया के एक हिस्से ने शिलांग में हुई झड़पों को सांप्रदायिक रंग दिया। संगमा ने कहा कि हिंसा के सिलसिले में गिरफ्तार किए गए ज्यादातर लोग पूर्वी खासी हिल्स जिले से बाहर के थे। शिलांग पूर्वी खासी हिल्स जिले में ही है। उन्होंने कहा कि हिंसा का वित्तपोषण कर रहे लोगों का पता लगाया जा रहा है।
Share this article

यह भी पढ़े

इस पेड से निकल रहा है खून, जानिए पूरी कहानी

यहां मुस्लिम है देवी मां का पुजारी, मां की अप्रसन्नता पर पानी हो जाता है लाल

इस लडकी का हर कोई हुआ दीवाना, जानें...

अजब गजबः यहां शिवलिंग पर हर साल गिरती है बिजली

आपके हाथ में पैसा नहीं रूकता, तो इसे जरूर पढ़े

खौफ में गांव के लोग, भूले नहीं करते ये काम