अमेरिका के रक्षामंत्री अफगानिस्तान पहुंचे,शांति प्रक्रिया में समर्थन दिया

काबुल। अमेरिका के रक्षामंत्री जेम्स मैटिस शुक्रवार को अचानक अफगानिस्तान पहुंचे, जहां उन्होंने राष्ट्रपति अशरफ गनी से मुलाकात की। मैटिस का यह दौरा ऐसे समय में हुआ है, जब वाशिंगटन 17 साल के युद्ध के बाद यहां विकास की कोशिशों में लगा हुआ है। मैटिस का दौरा अप्रत्याशित है और अफगान राजधानी में उनकी गतिविधियों या उनके प्रवास की अवधि के बारे में कोई जानकारी नहीं है। अफगान के राष्ट्रपति के प्रवक्ता हारुन चखनसूरी ने बताया कि अमेरिकी रक्षामंत्री मैटिस और जॉइंट चीफ ऑफ स्टाफ के अध्यक्ष, जनरल जोसफ डनफोर्ड काबुल पहुंचे हैं। दोनों राष्ट्रपति अशरफ गनी से मुलाकात करेंगे। अधिक जानकारी जल्द साझा की जाएगी। अफगानिस्तान में अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र मिशन के सूचना कार्यालय ने मैटिस के आगमन की पुष्टि की, लेकिन उनके एजेंडे के बारे में कोई जानकारी नहीं दी। मैटिस का आगमन जॉन निकोलसन के स्थान पर नाटो रिसोल्यूट सपोर्ट मिशन और यूएस फोर्स अफगानिस्तान के लिए ऑस्टिन मिलर की नियुक्ति के बीच हुआ है। मैटिस अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के साथ नई दिल्ली से शुक्रवार को यहां पहुंचे। नई दिल्ली में उन्होंने अपने भारतीय समकक्षों निर्मला सीतारमण और सुषमा स्वराज के साथ अफगानिस्तान में अमेरिका और भारत के महत्व पर चर्चा की थी। इस दौरान दोनों देशों के नेताओं ने अफगान नेतृत्व की शांति प्रक्रिया में अपने समर्थन की प्रतिबद्धता दोहराई थी।
Share this article

यह भी पढ़े

आपके हाथ में पैसा नहीं रूकता, तो इसे जरूर पढ़े

क्या आपकी लव लाइफ से खुशी काफूर हो चुकी है...!

यहां मुस्लिम है देवी मां का पुजारी, मां की अप्रसन्नता पर पानी हो जाता है लाल

खौफ में गांव के लोग, भूले नहीं करते ये काम

प्यार और शादी के लिए तरस रही है यहां लडकियां!

अजब- गजबः बंद आंखों से केवल सूंघकर देख लेते हैं ये बच्चे