भारत में तहलका मचाने वाले राफेल लडाकू विमान ग्वालियर एयरबेस पहुंचे

ग्वालियर । राफेल लडाकू विमान आने से पहले ही कांग्रेस पार्टी के नेताओं के बयानों से भारतीय राजनीति में गर्मी पैदा कर दी है। तीन राफेल लडाकू विमान भारत की भूमि पर आए हैं। ये तीनों विमान ग्वालियर एयरबेस पर तीन दिन तक मौजूद रहने का कार्यक्रम है। इस पर भारतीय वायुसेना के पायलट प्रशिक्षण करने का कार्यक्रम है। मामला इस प्रकार है कि फ्रांस वायुसेना के तीन राफेल लड़ाकू विमान ऑस्ट्रेलिया में एक अंतरराष्ट्रीय युद्धाभ्यास में शामिल होकर आए हैं और वापसी में ग्वालियर में रुके हैं। इस अभ्यास में भारतीय वायुसेना ने भी भाग लिया था और ऐसे में अब एक साझा अभियान के तहत भारतीय वायुसेना के पायलट ग्वालियर में राफेल लड़ाकू विमान उड़ाएंगे। जबकि फ्रांस वायुसेना के पायलट मिराज 2000 लड़ाकू विमानों पर प्रशिक्षण लेंगे। ऑस्ट्रेलिया में हुए पिच ब्लैक युद्धभ्यास में भारतीय वायुसेना के ट्रांसपोर्ट और सुखोई-30 विमानों ने भी भाग लिया था। ग्वालियर एयरबेस पर शुरू हो रहे इस साझा अभ्यास के दौरान फ्रांस के पायलट उन्नत मिराज-2000 विमान उड़ाएंगे जबकि भारतीय वायुसेना के पायलट राफेल लड़ाकू विमान पर अभ्यास करने का कार्यक्रम है। कुछ दिन बाद राफेल लड़ाकू विमान भारत पहुंचना प्रारंभ हो जाएंगे और इससे पहले भारतीय पायलटों को अच्छा अनुभव मिल जाएगा। भारतीय वायुसेना के एक अधिकारी ने बताया कि सितंबर 2019 तक 36 राफेल लड़ाकू विमान देश में आने शुरू हो जाएंगे। पूरे विमान आने में कुछ और साल लगने का अनुमान है। इन 36 लड़ाकू विमानों को भारतीय वायुसेना की दो स्क्वाड्रन में बांटे जाने की योजना है। एक स्क्वाड्रन पाकिस्तान से मुकाबले के लिए हरियाणा के अंबाला में तैनात किया जाएगा जबकि चीन के लिए दूसरी पश्चिम बंगाल की हाशिमारा में तैनात करने की योजना है।
Share this article

यह भी पढ़े

अजब गजबः यहां शिवलिंग पर हर साल गिरती है बिजली

यहां कब्र से आती है आवाज, ‘जिंदा हूं बाहर निकालो’

अजब- गजबः बंद आंखों से केवल सूंघकर देख लेते हैं ये बच्चे

आपके हाथ में पैसा नहीं रूकता, तो इसे जरूर पढ़े

यहां मुस्लिम है देवी मां का पुजारी, मां की अप्रसन्नता पर पानी हो जाता है लाल

प्यार और शादी के लिए तरस रही है यहां लडकियां!