‘मुझे गर्व है कि मैं एक महिला हूं और आखिरी सांस तक बहनों के साथ खड़ी रहूंगी’

श्रीगंगानगर/अनूपगढ़/जयपुर। मुझे गर्व है कि मैं एक महिला हूं और इस नाते मैं जन्म से लेकर आखिरी सांस तक अपनी बहनों के साथ हर पल खड़ी हूं। हमने महिलाओं के लिए जो योजनाएं शुरू की हैं, वे जन्म से लेकर वृद्धावस्था तक महिलाओं को आत्मनिर्भर बना रही हैं। यह बात मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने अनूपगढ़ में आयोजित विशाल जनसभा में कही।उन्होंने कहा कि राजश्री योजना में बेटी को लक्ष्मी का रूप मानकर जन्म से लेकर लगातार सरकारी स्कूल में 12वीं कक्षा पास करने तक उसे 50 हजार रुपए हमारी सरकार देती है। इसके अलावा साइकिल, स्कूटी, लेपटॉप, छात्रवृत्ति, स्कूल दूर होने पर आने-जाने के लिए वाउचर, श्रमिक कार्डधारी है तो विवाह के लिए 55 हजार रुपए देकर महिला को सशक्त किया जा रहा है। महिला परित्यक्ता, विधवा, दिव्यांग और वृद्धा है तो उसे पेंशन दी जा रही है। पालनहार योजना में बच्चों को पालने के लिए 1 हजार रुपए तक प्रति बच्चा हर माह दिए जा रहे हैं।महिलाओं को घर की मुखिया बनायाराजे ने कहा कि महिलाओं को घर का मुखिया बनाने के लिए हमने भामाशाह योजना शुरू की। हमारी बेटियों की तरफ कोई आंख उठाकर न देखे इसलिए हमने 12 साल से कम उम्र की बच्ची से दुष्कर्म करने पर फांसी की सजा का कानून बनाया। अब तक 3 आरोपियों को यह सजा सुना दी गई है।महिलाओं को स्मार्ट फोन देगी सरकारमुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी बहनों के हाथों में स्मार्ट फोन हों और निजी उपयोग के साथ-साथ उन्हें सरकारी योजनाओं से मिल रहे लाभ की जानकारी भी मिल सके। इस पवित्र उद्देश्य को लेकर हमारी सरकार करीब 1 करोड़ पात्र परिवार की महिलाओं को स्मार्ट फोन के लिए 1 हजार रुपए देगी।
Share this article

यह भी पढ़े

यहां मुस्लिम है देवी मां का पुजारी, मां की अप्रसन्नता पर पानी हो जाता है लाल

खौफ में गांव के लोग, भूले नहीं करते ये काम