कटक : सरकार के काम ने कट्टर दुश्मनों को एक बनाया : मोदी

कटक। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार के चार साल पूरे हो चुके हैं। 26 मई 2014 को बहुमत के रथ पर सवार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने कैबिनेट के साथ शपथ ली थी। चौथी सालगिरह के उपलक्ष्य में बीजेपी देशभर में कई तरह के कार्यक्रमों के जरिए अपने उपलब्धियां गिना रही है। वहीं विपक्ष खोखले वादों की दुहाई देते हुए मोदी सरकार को घेरने की तैयारी कर रहा है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ओडिशा के कटक में एक जनसभा को संबोधित किया। और अपने कामकाज का ब्यौरा पेश किया। पीएम ने कहा कि इस देश में कंफ्यूजन वाली नहीं बल्कि कमिटमेंट वाली सरकार काम कर रही है। कमिटमेंट का नतीजा है कि भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया। कमिटमेंट का नतीजा है कि वन रैंक वन पेंशन को मंजूरी मिली। वहीं पीएम ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ सरकार के अभियान के बाद विपक्षी नेता एक मंच पर आ गए। आश्चर्य की बात है कि पांच हजार करोड़ के भ्रष्टाचार के मामले बेल पर चल रहे लोग हम लोगों के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं। कांग्रेस के खिलाफ बोलते हुए पीएम ने कहा कि एक परिवार के लिए सिर्फ सत्ता ही मायने रखती है। वो लोग सत्ता हासिल करने के लिए किसी हद तक जा सकते हैं। इस सरकार में तमाम ऐसे लोग हैं जिन्होंने गरीबी को करीब से देखा है और ये सबसे बड़ी वजह है कि हम गरीबों के कल्याण के लिए योजनाएं लेकर आए। ये एक ऐसी सरकार है कि जिसके राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानसेवक गरीबी में जवानी काट दी। ये ध्यान देने वाली बात है चार साल पहले देश में जो निराशा का भाव था वो छंट चुका है। इस पर भी ध्यान देने की जरूरत एक परिवार ने आम भारती को क्या दिया। जनपथ के जरिए सोनिया गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि एनडीए सरकार जनमत से चल रही है। सरकार ने कानूनों की बंदिशों को समाप्त किया। 2014 तक देश के 39 फीसद लोगों तक सैनिटेशन की पहुंच थी। लेकिन पिछले चार वर्षों में ये आंकड़ा 80 फीसद के पार पहुंच चुका है। देश की आजादी से लेकर 2014 तक 6 करोड़ टॉयलेट थे, जबकि पिछले चार वर्षों में 7.5 करोड़ टॉयलेट बनाए जा चुके हैं।कांग्रेस इस बात को क्यों नहीं समझ सकी कि बैंकों में गरीबों के भी खाते होने चाहिए। कांग्रेस को ये क्यों नहीं दिखाई दिया कि गरीबों के पास भी जीवन बीमा होना चाहिए। महानदी के मुद्दे पर पीएम ने राज्य की नवीन पटनायक पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पटनायक सरकार विधानसभा के अंदर मान चुकी है कि महानदी का ज्यादा पानी बंगाल की खाड़ी में बह जाता है। लेकिन जमीनी स्तर पर किसी तरह की कार्रवाई नहीं कर रही है।
Share this article

यह भी पढ़े

क्या आपकी लव लाइफ से खुशी काफूर हो चुकी है...!

इस पेड से निकल रहा है खून, जानिए पूरी कहानी

प्यार और शादी के लिए तरस रही है यहां लडकियां!

अजब गजबः यहां शिवलिंग पर हर साल गिरती है बिजली

अजब- गजबः बंद आंखों से केवल सूंघकर देख लेते हैं ये बच्चे

यहां मुस्लिम है देवी मां का पुजारी, मां की अप्रसन्नता पर पानी हो जाता है लाल