कथावाचक देवकीनंदन ठाकुर को गिरफ्तार करने के बाद किया रिहा

आगरा। अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (एससी-एसटी) एक्ट का विरोध कर रहे मशहूर कथावाचक देवकीनंदन ठाकुर को आज पुलिस ने आगरा से गिरफ्तार किया। ठाकुर देवकीनंदन को कमलानगर स्थित टेंप्टेशन रेस्टोरेंट से हिरासत में लिया। यहां से उनको पुलिस लाइंस भेजकर रिहा कर दिया।उनके साथ आधा दर्जन से ज्यादा समर्थक भी थे। बताया जा रहा है कि ठाकुर आगरा में पत्रकार वार्ता कर रहे थे इसी दौरान भारी संख्या में पहुंची पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया। मीडिया रिपोट्स के मुताबिक, मंगलावार को आगरा के खंदौली में देवकीनंदन ठाकुर की सभा होनी थी जिसे प्रशासन ने अनुमति नहीं दी थी। देवकीनंदन ठाकुर ने इसे लोकतंत्र की हत्या करार दिया है। देवकीनंदन ठाकुर 6 सिंतबर को हुए सवर्ण आंदोलन के कथित नेता हैं। ठाकुर एससी-एसटी एक्ट का पुरजोर विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि इससे समाज में खाई बढ़ रही है। पिछले दिनों उन्होंने एक न्यूज चैनल से बातचीत के दौरान कहा था कि हमारी अपनी सरकार अगर ऐसा कदम उठाएगी तो क्या मेरा अधिकार नहीं है कि मैं अपनी बात रख सकूं। हमें एससी-एसटी एक्ट चाहिए लेकिन जैसा सुप्रीम कोर्ट ने कहा है।देवकी नंदन ठाकुर ने कहा था, ‘चार युग निकल गए हम नहीं बंटे लेकिन जब से देश में जाति की राजनीति करने लगे हम आपस में बंट गए। हम देश, संस्कृति की बात नहीं करते। देश की संस्कृति है कि हम आपस में शक करें। इस कानून के बाद लोगों में डर बढ़ेगा कि मैं इसके साथ बैठूंगा तो मुझे जेल हो जाएगी।’ देवकी नंदन ठाकुर ने कहा, ‘अगर समाज किसी कानून से बंटेगा तो सारी पार्टियों और सारे सांसदों से कहता हूं कि इस पर विचार करें। हम सरकार को दो महीने का समय दे रहे हैं, इसके बाद जो होगा वो सब लोग देखेंगे।’
Share this article

यह भी पढ़े

यहां कब्र से आती है आवाज, ‘जिंदा हूं बाहर निकालो’

क्या आपकी लव लाइफ से खुशी काफूर हो चुकी है...!

इस पेड से निकल रहा है खून, जानिए पूरी कहानी