खाद्य पदार्थों की रोकथाम के लिए अब हर माह लेने होंगे 30 नमूने

चंडीगढ़। हरियाणा सरकार ने खाद्य पदार्थों में मिलावट की रोकथाम के लिए प्रत्येक जिले में हर महीने 30 खाद्य नमूने लेने का लक्ष्य रखा है, ताकि लोगों को गैर मिलावटी व शुद्ध खाद्य पदार्थ उपलब्ध हो सकें। यह जानकारी हरियाणा विधानसभा के मानसून सत्र के दौरान पूछे गए एक प्रश्न के लिखित जवाब में दी गई।इस जानकारी के अनुसार वर्ष 2015 से 2018 तक कुल 178 खाद्य नमूने जांच में विफल पाए गए, जिनमें से 152 के विरुद्ध मामले दर्ज किए गए। इन मामलों में 12 व्यक्ति दोषमुक्त सिद्ध हुए, जबकि 20 लोगों को अपराधी घोषित किया गया। इसके तहत वर्ष 2015 में 16 नमूने विफल रहे, 16 मामले दर्ज हुए और एक व्यक्ति दोषमुक्त सिद्ध हुए। इसी प्रकार वर्ष 2016 में 51 नमूने विफल रहे, 51 मामले दर्ज हुए, दो व्यक्ति दोषमुक्त और 4 दोषी पाए गए। वर्ष 2017 में 89 नमूने विफल रहे, 68 मामले दर्ज हुए, छह व्यक्ति दोषमुक्त और 8 दोषी पाए गए। वर्ष 2018 में 22 नमूने विफल रहे, 17 मामले दर्ज हुए, तीन व्यक्ति दोषमुक्त और 8 दोषी पाए गए हैं। गुहला विधानसभा क्षेत्र के गांव ओगंध में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खोलने का प्रस्ताव विचाराधीन है। इस संबंध में आवश्यक प्रक्रिया एवं कार्रवाई चल रही है, जिन्हें शीघ्र पूरा किया जाएगा। इसके अलावा, नरवाना के सामान्य अस्पताल में एक उच्च शक्ति वोल्टेज जनरेटर लगाने का विचार है, जिसकी खरीद प्रक्रिया शीघ्र पूरी की जाएगी।
Share this article