MP में शिवराज के रथ पर पथराव, सिंधिया को धमकी, सियासी पारा चढ़ा

भोपाल/सीधी/दमोह। मध्यप्रदेश में जन आशीर्वाद यात्रा पर निकले मुख्यमंत्री शिवराज सिह चौहान के रथ पर रविवार देर रात सीधी जिले के चुरहट विधानसभा क्षेत्र में कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा किए गए पथराव और कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को जान से मारने की धमकी दिए जाने के बाद राज्य की राजनीति का पारा चढ़ गया है। भाजपा और कांग्रेस दोनों आक्रामक हैं। मुख्यमंत्री शिवराज इन दिनों पूरे प्रदेश में जन आशीर्वाद यात्रा निकाल रहे हैं, उनकी यात्रा रविवार की रात सीधी जिले के चुरहट विधानसभा क्षेत्र पहुंची। यहां से विधायक विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिह हैं। मुख्यमंत्री का रथ पहुंचने पर रात के अंधेरे में कुछ अज्ञात लोगों ने पथराव कर दिया। भाजपा के मीडिया विभाग के प्रमुख लोकेंद्र पाराशर का दावा है कि पथराव कांग्रेस ने कराया है। स्वयं मुख्यमंत्री शिवराज ने कांग्रेस पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस उनकी खून की प्यासी है। शिवराज ने सोमवार को भोपाल में संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं प्रदेश की जनता की सेवा का संकल्प लिए हुआ हूं, कांग्रेस मेरे खून की प्यासी हो गई है। मैं मर भी जाऊं तो दोबारा जन्म लेकर इसी प्रदेश में आऊंगा।’’वहीं, नेता प्रतिपक्ष अजय ङ्क्षसह का कहना है कि चुरहट और कांग्रेस के लोगों की यह संस्कृति नहीं है कि वे विरोधी पर किसी भी तरह की उग्रता पर उतरें। यह घटना ङ्क्षनदनीय है। उन्हें लगता है कि यह भाजपा द्वारा जान-बूझकर रची गई साजिश है। उन्होंने कहा, ‘‘चुरहट की जनता व मुझे (अजय) बदनाम करने की साजिश का हिस्सा है। शिवराज ने कांग्रेस पर आरोप लगाकर अब सहानुभूति बटोरने की सोची है।’’ वहीं, राज्य के गृहमंत्री भूपेंद्र ङ्क्षसह ने रथ पर पथराव को ‘हत्या की साजिश’ करार दिया है। उन्होंने संवाददाताओं से चर्चा के दौरान कहा, मुख्यमंत्री के रथ पर सुनियोजित तरीके से पत्थर बरसाए गए, पत्थर कांच में लगे, अगर यह पत्थर चौहान तक पहुंचते तो उन्हें नुकसान हो सकता था। यह पूरी तरह हत्या की साजिश थी, जो सुरक्षा बलों की सतर्कता और सजगता से सफल नहीं हुई।गृहमंत्री ने बताया कि पथराव करने के मामले में नौ गिरफ्तारियां भी हुई हैं, जो कांग्रेस के नेता हैं। पुलिस आरोपियों पर कार्रवाई कर रही है। दूसरी ओर, विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और चुरहट से विधायक अजय ङ्क्षसह ने गृहमंत्री की आशंका वाले बयान पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा कि यह पूरी तरह गृहमंत्री का फेल्योर है, उन्हें अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए और शिवराज को दूसरा गृहमंत्री तलाशना चाहिए। गृहमंत्री बताएं कि उन्हें हत्या की साजिश का इनपुट किस एजेंसी से मिला है।उन्होंने कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं को मुख्यमंत्री के दौरे से पहले ही थानों में बैठा लिया गया था। जब चुरहट में चौहान की सभा चल रही थी, उस दौरान उनके रथ पर पत्थर का कोई निशान नहीं था। यकीन के लिए सीसीटीवी फुटेज देखा जाना चाहिए। इस मामले की उच्चस्तरीय जांच हो। वहीं दूसरी ओर दमोह जिले के हटा विधानसभा क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी की विधायक उमा देवी खटीक के बेटे ङ्क्षप्रसदीप लालचंद खटीक ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट के जरिए कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य ङ्क्षसधिया को गोली मारने की धमकी दी है। उमा देवी के बेटे ने सोमवार को फेसबुक पर पोस्ट किया- ‘‘सुन ज्योतिरादित्य! तेरी रगों में जीवाजी राव का खून है, जिसने बुंदेलखंड की बेटी झांसी की रानी का खून किया था, अगर उपकाशी हटा में प्रवेश कर इस धरती को अपवित्र करने की कोशिश की तो गोली मार दूंगा, लहारी में ही, या तो मेरी मौत होगी या तेरी।’’ङ्क्षसधिया पांच सितंबर को हटा जिले में जनसभा को संबोधित करने आने वाले हैं, इस पोस्ट को उसी से जोडक़र देखा जा रहा है। विधायक उमा देवी ने सफाई देते हुए कहा, ‘‘यह पोस्ट दुर्भाग्यपूर्ण है, ङ्क्षसधिया सम्मानीय सांसद हैं, इस तरह की पोस्ट नहीं की जानी चाहिए। मेरे बेटे ने यह पोस्ट क्यों की है, इसका मैं पता कर रही हूं। मैं इस पोस्ट को हटाने को कहूंगी। ङ्क्षप्रसदीप मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर भी अनर्गल टिप्पणी कर चुका है।’’कांग्रेस के पूर्व मंत्री राजा पटैरिया का कहना है कि युवा सांसद ङ्क्षसधिया देश की सबसे चहेती शख्सियतों में से हैं, उनके बढ़ते प्रभाव से भाजपा के कार्यकर्ता से लेकर नेता तक बौखलाए हुए हैं, यही कारण है कि वे उन पर अनर्गल आरोप लगाते हैं। पुलिस को इस पर तुरंत कार्रवाई करते हुए सिंधिया की सुरक्षा बढ़ानी चाहिए।
Share this article

यह भी पढ़े

क्या आपकी लव लाइफ से खुशी काफूर हो चुकी है...!

खौफ में गांव के लोग, भूले नहीं करते ये काम

अजब- गजबः बंद आंखों से केवल सूंघकर देख लेते हैं ये बच्चे

इस पेड से निकल रहा है खून, जानिए पूरी कहानी

इस लडकी का हर कोई हुआ दीवाना, जानें...

आपके हाथ में पैसा नहीं रूकता, तो इसे जरूर पढ़े