भूख हड़ताल कर रहे हार्दिक पटेल ने कहा- शरीर पर भरोसा नहीं, जताई अंतिम इच्छा

अहमदाबाद। पाटीदार समुदाय को आरक्षण, किसानों की कर्जमाफी और अपने सहयोगी अल्पेश कठीरिया की रिहाई की मांग को लेकर हार्दिक अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर हैं। भूख हड़ताल के नौवें दिन हार्दिक पटेल ने अपनी वसीयत जारी की। हार्दिक ने अपनी वसीयत में कहा, 'इस निर्दयी बीजेपी सरकार के खिलाफ 25 अगस्त से मैं अनशन कर रहा हूं। मेरा शरीर कमजोर हो चुका है और मैं दर्द, बीमारी और संक्रमण का शिकार हो गया हूं। लगातार बिगड़ रहे इस शरीर पर मैं भरोसा नहीं कर सकता। मेरे शरीर से मेरी आत्मा कभी भी बाहर निकल सकती है। इसलिए मैंने अपनी अंतिम इच्छा की घोषणा करने का फैसला लिया।' हार्दिक ने इस वसीयत में मौत होने की सूरत में अपनी आंखें दान करने की इच्छा भी जाहिर की है। इसके साथ ही हार्दिक ने कहा कि वे चाहते हैं कि उनकी संपत्ति का बंटवारा माता-पिता (भरत पटेल और ऊषा पटेल) और एक गोशाला के बीच हो। पाटीदार समाज के एक अन्य नेता मनोज पनारा ने हार्दिक की वसीयत का ऐलान किया। पनारा ने कहा कि अगर हार्दिक को कुछ होता है, तो उनके बैंक अकाउंट में जमा कुल 50 हजार रुपयों में से 20 हजार माता-पिता को जबकि बाकी 30 हजार रुपये अहमदाबाद के विरमगाम तालुका के उनके पुश्तैनी गांव चंदननगर के पास स्थित एक गोशाला को दिया जाएगा।
Share this article

यह भी पढ़े

यहां कब्र से आती है आवाज, ‘जिंदा हूं बाहर निकालो’

आपके हाथ में पैसा नहीं रूकता, तो इसे जरूर पढ़े

खौफ में गांव के लोग, भूले नहीं करते ये काम

अजब- गजबः बंद आंखों से केवल सूंघकर देख लेते हैं ये बच्चे

यहां मुस्लिम है देवी मां का पुजारी, मां की अप्रसन्नता पर पानी हो जाता है लाल

इस लडकी का हर कोई हुआ दीवाना, जानें...