5 महीनों में 2 आईपीएस अधिकारियों की आत्महत्या से उप्र पुलिस परेशान

एक अन्य बेहद सम्मानित पूर्व डीजीपी श्रीराम अरुण ने कहा कि पुलिस सेवा में खींचतान और दबाव "आजकल पहले से कहीं अधिक है।"उन्होंने कहा, "सभी तरफ से राजनीतिक दबाव है, अधिकारियों का एक झटके में तबादला कर दिया जाता है।" उन्होंने कहा कि इन चीजों से निपटने के लिए पुलिसकर्मियों को गलतियों के खिलाफ खड़े होने और अपने निजी और पेशेवर जीवन को संतुलित करने की जरूरत है, जबकि राजनीतिक महकमे को यह समझने की जरूरत है कि "बेहतर पुलिस व्यवस्था केवल पुलिस और उसके अधिकारियों के साथ बेहतर और सौहार्द्रपूर्ण संबंधों के माध्यम से हासिल की जा सकती है।"कई सेवारत अधिकारियों ने आईएएनएस से कहा कि वे इस तरह की दुखद घटनाओं के बारे में चिंतित हैं और उन्होंने सुझाव दिया कि वार्षिक मेंटल प्रोफाइलिंग इस तरह की घटनाओं से बचने का एक रास्ता हो सकता है, जैसा कि कई देशों में पुलिस बलों और यहां तक कि कुछ अर्धसैनिक बलों के लिए किया जाता है। वे यह भी महसूस करते हैं कि काम करने की परिस्थितियों में कुछ सुधार के साथ ही पुलिस की काम करने की पुरानी शैली और वरिष्ठ और कनिष्ठ स्टाफ के बीच भाईचारगी जरूरी है।--आईएएनएस
Share this article

यह भी पढ़े

क्या आपकी लव लाइफ से खुशी काफूर हो चुकी है...!

इस पेड से निकल रहा है खून, जानिए पूरी कहानी

यहां कब्र से आती है आवाज, ‘जिंदा हूं बाहर निकालो’