रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ ऐसे भी फायदेमंद है करेला

करेला औषधि के रूप में इस्तेमाल करने के लिए कच्चा करेला ही ज्यादा मुफीद होता है। करेला बेल पर लगने वाली सब्जी है। इसका रंग हरा होता है। इसकी सतह पर उभरे हुए दाने होते हैं। इसके अंदर बीज होती हैं और करेला पक जाए तो बीज लाल हो जाते हैं। जब तक पकता नहीं तक तग बीज सफेद रहते हैं।करेले का न्युट्रिशनल वैल्यू: करेले में प्रचुर मात्रा में विटामिन ए, बी और सी पाए जाते हैं। इसके अलावा कैरोटीन, लुटीन, जिंक, पोटैशियम, मैग्नीशियम और मैगजीज जैसे फ्लावोन्वाइड भी पाए जाते हैं।करेले में मौजूद खनिज और विटामिन शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाते हैं जिससे कैंसर जैसी बीमारी का मुकाबला भी किया जा सकता है।डार्क करेला में ढेरों एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन पाए जाते हैं। करेले का सेवन हम कई रूपों में कर सकते हैं। हम चाहें तो इसका जूस पी सकते हैं, सब्जी या अचार बना सकते हैं।
Share this article

यह भी पढ़े

याददाश्त करनी है मजबूत तो रात को लें भरपूर नींद

बुजुर्गो में बढ़ती जाती है ये इच्छा

कमाल के 5 टिप्स साल भर शरीर को हेल्दी बनाएं

5 अनोखे होम टिप्स से पाएं खूबसूरत त्वचा

जानें संतुलित आहार की अनजानी बातों के बारे में

पाएं कैटरीना-दिव्यांका जैसी Glowing Skin