चरणामृत सेवन करने से पुनर्जन्‍म नहीं होता

अक्सर मंदिरों में आपको पुजारी ने चरणामृत या पंचामृत दिया होगा। आप जानते हैं इन दोनों में फर्क क्या है? अकालमृत्युहरणं सर्वव्याधिविनाशनम्। विष्णो पादोदकं पीत्वा पुनर्जन्म न विद्यते।।अर्थात भगवान विष्णु के चरणों का अमृतरूपी जल सभी तरह के पापों का नाश करने वाला है। यह औषधि के समान है। जो चरणामृत का सेवन करता है उसका पुनर्जन्म नहीं होता है। ऐसे बनता चरणामृत : तांबे के बर्तन में चरणामृतरूपी जल रखने से उसमें तांबे के औषधीय गुण आ जाते हैं। चरणामृत में तुलसी पत्ता, तिल और दूसरे औषधीय तत्व मिले होते हैं। मंदिर या घर में हमेशा तांबे के लोटे में तुलसी मिला जल रखा ही रहता है।चरणामृत लेने के बाद सिर पर हाथ ना फेरेंचरणामृत ग्रहण करने के बाद बहुत से लोग सिर पर हाथ फेरते हैं, लेकिन शास्त्रीय मत है कि ऐसा नहीं करना चाहिए। इससे नकारात्मक प्रभाव बढ़ता है। चरणामृत हमेशा दाएं हाथ से लेना चाहिए और श्रद्घाभक्तिपूर्वक मन को शांत रखकर ग्रहण करना चाहिए। इससे चरणामृत अधिक लाभप्रद होता है।
Share this article

यह भी पढ़े

नाैकरी मिलेगी पक्‍की, अगर मंदिर में चढाओगे इतने फल

ये 10 तथ्य बताते है शुभ और अशुभ समाचार

ऐसा भोजन करने से होंगे सभी ग्रह अनुकूल, मिलने लगेगी दौलत

जब व्यवसाय और रोजगार में लगातार हो रही हो हानि, करें ये उपाय

परीक्षा और इंटरव्यू में पानी हैं सफलता तो अपनाएं ये उपाय

अगर आप पर है किसी उतारे या टोटके का असर, करें ये खास उपाय