जानें, घर में किसी भी दिशा में मंदिर होने से क्या पड़ता है असर

ईशान कोण: ईशान कोण में पूजा का स्थान होने से परिवार के सदस्य सात्विक विचारों के होते हैं। उनका स्वास्थ्य अच्छा रहता है और उनकी आयु बढ़ती है। पूर्व दिशा : इस दिशा में पूजा का स्थान होने पर घर का मुखिया सात्विक विचारों वाला होता है और समाज में इज्जत और प्रसिद्धि पाता है। आग्नेय: इस कोण में पूजा का स्थान होने पर घर के मुखिया को खून की खराबी की शिकायत होती है। वह बहुत ही गुस्से वाला होता है किंतु उसमे निर्भीकता होती है। वह हर कार्य का निर्णय स्वयं लेता है।
Share this article

यह भी पढ़े

वास्तु : इस रंग की कुर्सी पर बैठें, नहीं आएगी धन की कमी

झूठ बोलने से नहीं मिलेगा इन कार्यो का फल

कुंडली का ये भाव बताता है आप ‘अमीर’ है या ‘गरीब’

व्यापार में सफलता के अचूक उपाय

क्या होता है पितृदोष व मातृदोष

इन कार्यो को करने से आएगी घर में परेशानी