गणेश चतुर्थी पर इसलिए बचें चंद्र दर्शन से, जानें और भी बातें

गणेश चतुर्थी को बडा ही शुभ दिन माना जाता है। इस तिथि को चांद देखना वर्जित है। भारतीय धर्मशास्त्रों के अनुसार प्राय: सभी शुक्ल पक्ष की चतुर्थियों को खासकर भाद्र शुक्ल चतुर्थी को चंद्र दर्शन निषिद्ध माना गया है। दर्शन से निश्चय ही झूठा कलंक लगता है। ऎसी मान्यता है कि इसी दिन भगवान श्रीकृष्ण पर "सूर्यकांत मणि" की चोरी का झूठा कलंक लगा था। पौराणिक कथा के अनुसार, एक दिन चंद्रमा को अपने सौंदर्य का अभिमान हुआ। उसने गणेश जी का अपमान किया। इसी कारण गणेश जी ने श्राप दिया कि आज से तुम काले हो जाओ और जो भी आज के दिन तुम्हारा मुख देखे वह भी कलंक का पात्र होगा। उस दिन भाद्र शुक्ल चतुर्थी थी। चंद्रमा ने तत्काल क्षमा-याचना की। इस पर गणपति जी ने कहा कि मेरा श्राप तुम्हें केवल भाद्र शुक्ल चतुर्थी को विशेष रहेगा। अन्य चतुर्थियों पर नहीं अगर भूलवश चंद्र दर्शन हो जाये तो उसी के निवारण के लिए सिद्धि विनायक व्रत का विधान किया गया है।
Share this article

यह भी पढ़े

जब व्यवसाय और रोजगार में लगातार हो रही हो हानि, करें ये उपाय

अगर आप पर है किसी उतारे या टोटके का असर, करें ये खास उपाय

कर्ज मुक्ति के लिए प्रतिदिन करें ये उपाय, चमक जाएंगी किस्मत

ऐसे रुद्राक्ष धारण करने से बदल जाएगी आपकी तकदीर

जानें, कितना वफादार है आपका पार्टनर

इन पौराणिक कहानियों के कारण मनाया जाता है रक्षाबंधन का पर्व