ऐसा भोजन करने से होंगे सभी ग्रह अनुकूल, मिलने लगेगी दौलत

श्रीमद्भगवद् गीता के सत्रहवें अध्याय में भोजन के तीन प्रकारों, सात्विक, राजसिक एवं तामसिक का उल्लेख मिलता है। सात्विक आहार शरीर के लिए लाभकारी होते हैं और आयु, गुण, बल, आरोग्य तथा सुख की वृद्धि करते हैं। इस प्रकार के आहार में गौ घृत, गौ दुग्ध, मक्खन, बादाम, काजू, किशमिश आदि मुख्य हैं। राजसिक भोजन कड़वे, खट्टे, नमकीन, गरम, तीखे व रूखे होते हैं। इनके सेवन से शरीर में दुःख, शोक, रोग आदि उत्पन्न होने लगते हैं। इमली, अमचूर, नीबू, छाछ, लाल मिर्च, राई जैसे आहार राजसिक प्रकृति के माने गए हैं। कहते हैं कि सात्विक भोजन करने से सभी ग्रह अनुकूल होने लगते हैं और दौलत और शोहरत पाने के योग बनने लगते हैं।तामसिक भोजन किसी भी दृष्टि से शरीर के लिए लाभकारी नहीं होते। बासी, सड़े-गले, दुर्गंधयुक्त, झूठे, अपवित्र और त्याज्य आहार तामस भोजन के अंतर्गत माने जाते हैं। मांस, अंडा, मछली, मदिरा, प्याज, लहसुन आदि आहार तामसिक होते हैं। इनके सेवन से मनुष्य की बुद्धि पर नकारात्मक असर पड़ता है।
Share this article

यह भी पढ़े

आप जानते हैं आपका पर्स खाली क्यों रहता है?

क्यों काटा ब्रह्मा का 5वां सिर, जानें-शिव के 19 अवतार

हर हिंदू को सूतक और पातक के नियम जानने हैं बेहद जरूरी

दीपक जलाने से पहले, इसके रहस्य भी जानें, हैरान रह जाएंगे आप

सोते समय सिरहाने नहीं रखें ये 5 चीजें

गिफ्ट में ना दे ये 10 चीजें, शनिदेव हो जाएंगे नाराज!